Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

चना वायदा से किसानों की भी मदद: एनसीडीईएक्स

चना वायदा फिर से शुरु होने जा रहा है। एक साल की रोक के बाद एनसीडीईएक्स को इसके लिए सेबी से मंजूरी मिल गई है।
अपडेटेड Jul 13, 2017 पर 12:05  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

चना वायदा फिर से शुरु होने जा रहा है। एक साल की रोक के बाद एनसीडीईएक्स को इसके लिए सेबी से मंजूरी मिल गई है। लिहाजा एक्सचेंज ने कल यानि 14 जुलाई को इसे शुरू करने का एलान किया है। नए चना वायदा में राजस्थान के बीकानेर को बेस डिलिवरी सेंटर बनाया गया है। साथ ही मध्यप्रदेश में गंज बसोदा को भी अतिरक्त डिलिवरी सेंटर बनाया गया है। एनसीडीईएक्स पर कल से चने में सितंबर, अक्टूबर और नवंबर वायदा शुरु हो जाएगा। इससे पहले चना और दाल की कीमतों में आई तेजी को देखते हुए सरकार ने इस पर पिछले साल जून में रोक लगा दी थी। इसके बाद दाल की कीमतों में भारी गिरावट आ चुकी है और कमोबेश सभी दालें एमएसपी के नीचे बिक रही हैं। दरअसल इस साल देश में दाल की बंपर पैदावार हुई है। वहीं सरकार भी 20 लाख टन के बफर स्टॉक के साथ सीधे बाजार में दखल दे रही है। ऐसे में सवाल ये है कि नए माहौल में चना वायदा कितना सफल होगा। इस पर बात करने के लिए सीएनबीसी-आवाज़ के साथ जुड़ रहे हैं एनसीडीईएक्स के एमडी और सीईओ समीर शाह।


इस मुद्दे पर बात करते हुए समीर शाह ने कहा कि चना वायदा फिर से लॉन्च होना एक बहुत अच्छी शुरुआत है। एक साल के सस्पेंशन के बाद ये वायदा फिर लॉन्च हो रहा रहा है। जाहिर है कि इस पर सरकार और रेग्युलेटर्स ने काफी सोच विचार किया होगा तभी इसे फिर से लॉन्च करने का निर्णय लिया है। सरकार ने चने की कीमतों पर नियंत्रण के काफी प्रभावी कदम उठए हैं। चना वायदा फिर से शुरु करने के इस निर्णय से इस कमोडिटी को बाजार आधारित सपोर्ट देने और किसानों के लिए प्राइस डिस्कवरी आसान करने में सहायता मिलेगी।