Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

दिवाली से पहले कैसी है सोने की डिमांड और दिवाली पर क्या हैं ज्वेलरी पर ऑफर्स

आम लोग सोने में निवेश के लिए ज्वेलरी का विकल्प अपनाते हैं। इसके अलावा बार और सिक्के में भी निवेश किया जाता है।
अपडेटेड Oct 23, 2019 पर 09:08  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सीएनबीसी-आवाज़ पर इस खास शो में दिवाली से पहले सोने में निवेश करने के लिए तमाम पहलुओं पर चर्चा कर रहे हैं। इस चर्चा में भाग लेने के लिए सीएनबीसी-आवाज़ मेटल फोकस स्टुडियो के चिराग सेठ, पोपले ग्रुप के राजीव पोपले और अनमोल ज्वैलर्स के इशु दतवानी जुड़ गये हैं।


सोने में निवेश के विकल्प


आम लोग सोने में निवेश के लिए ज्वेलरी का विकल्प अपनाते हैं। इसके अलावा बार और सिक्के में भी निवेश किया जाता है। गोल्ड बॉन्ड, गोल्ड इटीएफ और डिजिटल गोल्ड आदि निवेश के लिए सोने के अन्य विकल्प के रूप में मौजूद हैं।


सोने में निवेश पर रिसर्च कंसल्टेंट चिराग सेठ की राय


चिराग का कहना है कि सोने के फंडामेंटल्स अभी भी मजबूत हैं। आनेवाले 2 साल तक सोने में तेजी बनी रहेगी। डॉलर में देखें तो 1 साल में सोना 9-10% बढ़ सकता है। ट्रेड वॉर से सोने की कीमतों को सपोर्ट मिल रहा है। ग्लोबल इकोनॉमी में कमजोरी से कीमतों को सपोर्ट मिला है। सोने की घरेलू कीमतें 1 साल में 6-7 प्रतिशत बढ़ सकती हैं।


सोने में निवेश पर राजीव पोपली की राय


राजीव का कहना है कि दशहरे के बाद डिमांड में सुधार आया है। सोने में दिवाली पर अच्छी मांग की उम्मीद है। उनका मानना है कि इस साल वॉल्यूम 20 प्रतिशत ज्यादा रहने की उम्मीद है। इसके अलावा ई-कॉमर्स गोल्ड बिक्री का अच्छा चैनल है।


सोने में निवेश पर इशु दतवानी की राय


इशु दतवानी का कहना है कि पिछले 2 साल के मुकाबले ये साल अच्छा है। इस साल वॉल्यूम 25 प्रतिशत ज्यादा रहने की उम्मीद है। ई-कॉमर्स में कम वैल्यू वाले प्रोडक्ट की ज्यादा बिक्री होती है हालांकि महंगे सामान की बिक्री ज्यादातर ऑफलाइन होती है। उन्होंने बताया कि बार की बिक्री घट रही है और ज्वेलरी की बिक्री बढ़ रही है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।