Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

अगले महीने RCEP पर हस्ताक्षर कर सकता है भारत, क्या चावल ट्रेड में बढ़ेगी रौनक

देश के तमाम कृषि संगठन इसका विरोध कर रहे हैं लेकिन चावल इंडस्ट्री इसके समर्थन में है।
अपडेटेड Nov 01, 2019 पर 17:06  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

भारत अगले महीने RCEP यानी Regional Comprehensive Economic Partnership पर हस्ताक्षर कर सकता है। देश के तमाम कृषि संगठन इसका विरोध कर रहे हैं लेकिन चावल इंडस्ट्री इसके समर्थन में है। भारत दुनिया का सबसे बड़ा चावल एक्सपोर्टर है और इंडस्ट्री का मानना है कि RCEP में शामिल होने से करीब 1 करोड़ टन एक्सपोर्ट का बाजार मिल जाएगा। भारत अगर RCEP में शामिल होता है तो चावल इंडस्ट्री को कितना फायदा होगा इस पर बात करने के लिए सीएनबीसी-आवाज़ के साथ All India Rice Exporters Association के विजय सेतिया जुड़े हैं।


चावल की डिमांड-सप्लाई


चावल के आंकड़ों पर नजर डालें तो 2018-19 में देश में रिकॉर्ड 11.64 Cr टन चावल उत्पादन हुआ था। चालू साल में 11.5 करोड़ टन चावल उत्पादन का अनुमान लगाया गया है। 1 अक्टूबर को सेंट्रल पूल में 2.49 करोड़ टन चावल था। देश में चावल की कुल खपत 10.22 करोड़ टन के करीब है। देश में चावल की सप्लाई 14.29 करोड़ टन रहने का अनुमान है।


RCEP में शामिल होने से फायदा


बता दें कि भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा चावल उत्पादक देश है। भारत दुनिया का सबसे बड़ा चावल निर्यातक भी है। वहीं, RCEP में शामिल होने से 1 भारत को करोड़ टन बाजार मिलेगा। RCEP यानी Regional Comprehensive Economic Partnership में शामिल होने चावल इंडस्ट्री को फायदा होगा।


तेल पर नजर डालें तो चीन के Stimulus पैकेज की उम्मीद में कच्चे तेल में खरीदारी नजर आ रही है। ब्रेंट 61 डॉलर के करीब पहुंच गया है जबकि घरेलू बाजार में 1 प्रतिशत से ज्यादा की बढ़त दिखाई दे रही है।


सोने चांदी की बात करें तो विदेशी बाजारों से अच्छे संकेत और रुपए में कमजोरी से सोने-चांदी में तेजी आई है। कॉमेक्स पर सोना 1500 डॉलर के पार निकल गया है। वहीं घरेलू बाजार में 0.5 प्रतिशत की बढ़त दिखाई दी है।


उधर चीन के कमजोर मैन्युफैक्चरिंग आंकड़ों से बेस मेटल्स पर दबाव बना हुआ है। निकेल में करीब 0.75 प्रतिशत की कमजोरी आई है। कॉपर और एल्युमिनियम पर भी दबाव बना हुआ है।


वहीं कपास खली की कीमतों में जोरदार तेजी देखने को मिली है और NCDEX पर इसके दाम करीब 2 प्रतिशत बढ़ गये हैं। सोयाबीन, चना और ग्वार में भी जमकर खरीदारी हुई है। 


मोतीलाल ओसवाल के नवनीत दमानी की निवेश सलाह


एमसीएक्स चांदी (दिसंबर): खरीदें-46450 रुपये, स्टॉपलॉस-46100 रुपये, लक्ष्य-47050 रुपये


एमसीएक्स कच्चा तेल (नवंबर): खरीदें-3925 रुपये, स्टॉपलॉस-3965 रुपये, लक्ष्य-3855 रुपये


IndiaNivesh Commodities के मनोज कुमार जैन की निवेश सलाह


सोयाबीनः खरीदें-3800 रुपये, स्टॉपलॉस-3760 रुपये, लक्ष्य-3860 रुपये


चनाः खरीदें-4420 रुपये, स्टॉपलॉस-4380 रुपये, लक्ष्य-4500 रुपये


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।