Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

भारत में जड़ाऊ ज्वेलरी की बढ़ रही डिमांड, जेम्स खरीदते समय किन चीजों का रखें ध्यान

देश में जेम्स की जड़ाऊ ज्वेलरी का प्रचलन बढ़ा है जिसके चलते भारत में माणिक और पन्ना की मांग बढ़ी है।
अपडेटेड Dec 12, 2019 पर 14:31  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सोने में कल की तेजी के बाद आज छोटे दायरे में कारोबार हो रहा है। हालांकि, कॉमेक्स पर सोने के दाम 1 हफ्ते के ऊपरी स्तर पर बने हुए हैं। अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने 2020 में दरों में कटौती के कोई संकेत नहीं दिए हैं लेकिन ग्रोथ हल्की रहने की बात कही है जिससे सोने को सपोर्ट मिला है। हालांकि, आज हमारा फोकस सोने पर नहीं बल्कि प्रीसियस जेम्स पर होगा। गोल्ड स्पॉट में हम लगातार सोने, चांदी और डायमंड की बात करते रहे हैं लेकिन नीलम, माणिक, पन्ना और पुखराज जैसे कलर जेम स्टोन की हमने कभी चर्चा नहीं की है इसलिए आज हम प्रीसियस जेम्स पर फोकस कर रहे हैं।


प्रीसियस जेम्स की बात करें तो देश में जेम्स की जड़ाऊ ज्वेलरी का प्रचलन बढ़ा है जिसके चलते भारत में माणिक और पन्ना की मांग बढ़ी है। हालांकि भारत में नीलम की डिमांड थोड़ी कम है। दक्षिण भारत में माणिक और पन्ना की अच्छी डिमांड है। ब्रांडेड रिटेलर्स की बिक्री में 10-15 फीसदी हिस्सा प्रीसियस जेम्स का है। भारत प्रीसियस जेम्स की प्रोसेसिंग का बड़ा केंद्र है। दुनिया के नामी ब्रांड भारत में प्रोसेसिंग कराते हैं।


प्रीसियस जेम्स का इंपोर्ट


भारत में माणिक का इंपोर्ट म्यानमार और मोंजाम्बिक से होता है। वहीं, पन्ना का इंपोर्ट कोलंबिया, ब्राजील और जाम्बिया से होता है। नीलम का इंपोर्ट श्रीलंका, मेडागास्कर, तंजानिया से होता है। US, ऑस्ट्रेलिया, चीन से भी नीलम का इंपोर्ट होता है। प्रीसियस जेम्स का इंपोर्ट 2008-09 में 10.6 Cr डॉलर से बढ़कर 2017-18 में 90.6 करोड डॉलर रहा है। अप्रैल-अगस्त, 2019 में जेम्स इंपोर्ट 150 फीसदी बढ़ा है।


कच्चा तेल


कल की गिरावट के बाद आज कच्चे तेल में रिकवरी देखने को मिल रही है।  अमेरिका चीन के सामान पर 15 दिसंबर से लगने वाले टैरिफ को टाल सकता है जिससे कच्चे तेल की कीमतों को सहारा मिल रहा है। अमेरिका में भंडार बढ़ने से कल क्रूड पर दबाव दिखा था। आगे क्रूड पर क्या नजरिया बन रहा है इस पर बात करने के लिए हमारे साथ रेलिगेयर की सुगंधा सचदेवा बनी हुई हैं।


बेस मेटल्स


बेस मेटल्स की कीमतों में आज तेजी देखने को मिल रही है। अमेरिका चीन के सामान पर 15 दिसंबर से लगने वाले टैरिफ को टाल सकता है इससे मेटल्स की कीमतों को सपोर्ट मिल रहा है। LME में कॉपर 5 महीने की ऊंचाई पर पहुंच गया है, वहीं निकेल में 5 महीने के निचले स्तर से शानदार रिकवरी देखने को मिल रही है।


Religare Broking की सुगंधा सचदेवा की निवेश सलाह


सोना एमसीएक्स (फरवरी वायदा): खरीदें - 37650 रुपये, लक्ष्य - 37860 रुपये, स्टॉपलॉस - 37520 रुपये


कच्चा तेल एमसीएक्स (दिसंबर वायदा): खरीदें - 4140 रुपये, लक्ष्य - 4210 रुपये, स्टॉपलॉस - 4100 रुपये


लेड एमसीएक्स (दिसंबर वायदा): खरीदें - 153.50 रुपये, लक्ष्य - 155 रुपये, स्टॉपलॉस - 152.50  रुपये


निकेल एमसीएक्स (दिसंबर वायदा): खरीदें - 1012 रुपये, लक्ष्य - 1028 रुपये, स्टॉपलॉस - 1004 रुपये


 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।