Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

धनतेरस पर सोने में निवेश का मंत्र

प्रकाशित Mon, 05, 2018 पर 12:08  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

धनतेरस के खास मौके पर हम आज सोने में निवेश को लेकर आपकी मदद करेंगे। दरअसर सोना कभी नष्ट नहीं होता है और इसी खासियत की वजह से इस मौके पर सोने में निवेश शुभ माना जाता है। पिछले 1 साल में सोने ने 8 फीसदी का रिटर्न दिया है और इसीलिए ये धनतेरस कुछ खास है। क्योंकि इस बार इस मौके पर सोना सबसे महंगा बिक रहा है। इसके भाव 32 हजार रुपये और कहीं-कहीं इससे भी ऊपर हैं तो सवाल ये है कि इस भाव पर सोने में निवेश कितना फलदायी होगा और सोने के किस विकल्प को चुनें कि हो बेहतर मुनाफा। जानेंगे इस खास पेशकश स्वर्ण कलश-धनतेरस में।


धनतेरस पर सोने की चाल की बात करों तो पिछले 1 साल में सोने का भाव करीब 8 फीसदी बढ़ा है। धनतेरस पर पहली बार इसका भाव 32,000 रुपये के पास है। ट्रेड वॉर और करेंसी में उठापटक से सोने का दाम बढ़ा है। कमजोर रुपए से घरेलू बाजार में सोने में ज्यादा तेजी आई है। 1 साल में डॉलर के मुकाबले रुपया 14 फीसदी लुढ़का है।


धनतेरस के मौके पर गोल्ड बॉन्ड में भी आप निवेश कर सकते हैं। इस साल गोल्ड बॉन्ड का तीसरा चरण 5 से 9 नवंबर तक खुलेगा। इसका इश्यू प्राइस 3183 रुपये प्रति ग्राम तय किया गया है। इसमें ऑनलाइन निवेश करने पर प्रति यूनिट 50 रुपये की छूट भी मिलेगी। यानि अगर आप ऑनलाइन आवेदन करते हैं या ऑनलाइन निवेश करते हैं तो आप 3133 रुपये प्रति ग्राम के भाव सोने में निवेश कर सकते हैं। आपको बता दें फिलहाल वायदा में सोना 31800 रुपये और हाजिर में 32 हजार रुपये के ऊपर है। गोल्ड बॉन्ड में निपेश पर सालाना 2.5 फीसदी ब्याज भी मिलेगी। इसमें एक ग्राम से लेकर 4 किलो सोने में निवेश की सुविधा है। इस बॉन्ड का लॉकिंग पीरियड 8 साल है। लेकिन 5वें साल से आप आपना निवेश निकाल सकते हैं।


अगर आप गोल्ड बॉन्ड नहीं खरीदना चाहते हैं तो ज्वेलरी भी एक अच्छा विकल्प है। दिवाली पर आप सोने की ज्वेलरी खरीदने जा रहे हैं तो आपको किन बातों का ध्यान रखना चाहिए आइए जानते हैं। सबसे पहले तो ज्वेलरी एक्सचेंज का गणित समझें।


बता दें कि सोने की शुद्धता, वजन के हिसाब से एक्सचेंज होता है। सोने की शुद्धता और उसका वजन ज्वेलरी पिघलकर तय होता है। कई ज्वेलर बायबैक का ऑफर देते हैं। बायबैक में सोने की चालू कीमत पर एक्सचेंज मिलता है। जितनी कम शुद्धता होगी  एक्सचेंज कर पर आपको उतनी ही ज्यादा रकम चुकानी होगी।


अगर वजन और शुद्धता पूरी हो तो एक्सचेंज करने पर आपको सिर्फ जीएसटी देना होगा। सोने की खरीद पर पक्का बिल जरूर लें। हॉलमार्क की जांच कर सोना खरीदें। ज्वेलरी पर हॉलमार्क जरूर देखें।