Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

मॉनसून में देरी से सोयाबीन उछला, एग्री में क्या हो रणनीति

आधा जून खत्म हो गया और मॉनसून पूरी तरह से तमिलनाडु से आगे नहीं बढ़ सका है।
अपडेटेड Jun 17, 2019 पर 11:40  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आधा जून खत्म हो गया और मॉनसून पूरी तरह से तमिलनाडु से आगे नहीं बढ़ सका है। हालांकि पूर्वोत्तर के ज्यादातर इलाकों में मौजूदगी दर्ज कराने के बावजूद मॉनसून उत्तरी कर्नाटक को सिर्फ किसी तरह से छू सका है। मध्य भारत से मॉनसून अभी भी काफी दूर है। इलाके में बेहद भीषण गर्मी पड़ रही है। जबकि सोयाबीन और कपास की खेती का वक्त आ चुका है। ऐसे में मौसम की जानकारी देने वाली कंपनी स्काईमेट ने पहले ही खरीद की बुआई में देरी की आशंका जताई थी।


इस बीच खेती वाले इलाको में बारिश की देरी से सोयाबीन का दाम 3 हफ्ते की ऊंचाई पर चला गया है। दरअसल देश का करीब 85 फीसदी सोयाबीन मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र में पैदा होता है। और इस इलाके में अभी भी मॉनसून पहुंच नहीं सका है।  वहीं इलायची में आज लगातार 7 दिन तेजी का रुख है और वायदा में 4 फीसदी का ऊपरी सर्किट लगा चुका है। हाजिर में भाव 3100 रुपए के ऊपर है। इस साल पैदावार पिछले 20 साल के निचले स्तर पर है।


वहीं नॉन एग्री कमोडिटी में बेस मेटल में तेजी का रुख है। कॉपर समेत सभी मेटल तेज हैं और निकेल पिछले 2 महीने की ऊंचाई पर चला गया है। 


निर्मल बंग कमोडिटीज की निवेश सलाह


एमसीएक्स लेडः खरीदें 153 रुपये, स्टॉपलॉस 151.9 रुपये, लक्ष्य 155.90 रुपये


एमसीएक्स सोनाः खरीदें 33000 रुपये, स्टॉपलॉस 32810 रुपये, लक्ष्य 33340 रुपये


एमसीएक्स कच्चा तेलः खरीदें 3650 रुपये, स्टॉपलॉस 3605 रुपये, लक्ष्य 3730  रुपये


एनसीडीईएक्स सोयाबीनः बेचें 3760 रुपये, स्टॉपलॉस 3805 रुपये, लक्ष्य 3710 रुपये