Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

क्या गमिर्यों में गरमायेगा गेहूं का दाम, जानिये एक्स्पर्ट्स से

प्रकाशित Fri, 10, 2019 पर 17:03  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कमोडिटी आउटलुक में इस बार नजर गेहूं पर है। अप्रैल से ही इसकी कीमतें करीब दस प्रतिशत बढ़ चुकी हैं और फिलहाल मंडियों में गेहूं MSP के ऊपर बिक रहा है। इस बीच FCI ने इस साल के लिए गेहूं का बेस प्राइस बढ़ाकर 2080 रुपए क्विंटल कर दिया है। साथ ही हर तिमाही पचपन रुपए कीमतें बढ़ाने का भी व्यवस्था की गई है। इससे पहले सरकार गेहूं इंपोर्ट पर ड्यूटी बढ़ाकर चालीस प्रतिशत कर चुकी है। ऐसे में बड़ा सवाल ये है कि क्या आगे भड़केगा गेहूं का दाम।


वैसे भी गेहूं पर 40 प्रतिशत ड्यूटी के साथ इंपोर्ट संभव नहीं है। दक्षिण भारत से गेहूं की मांग बढ़ने की उम्मीद है। दूसरी तरफ बड़े कारोबारी गेहूं का स्टॉक बनाने में जुटे हैं। मार्च के बाद से गेहूं का दाम करीब 10 प्रतिशत तक बढ़ा है। आगे चलकर FCI के गेहूं पर निर्भरता बढ़ेगी। गेहूं का MSP मूल्य 1840 रुपये हैं और बाजार भाव 1850 रुपये जबकि FCI का भाव 2080 है।


बाजार में सरकार का दखल यू रहा है कि 1 अप्रैल को सेंट्रल पूल में 169.9 लाख टन गेहूं है। पिछले साल सरकार ने रिकॉर्ड 82 लाख टन गेहूं बेचा था। इस साल FCI का 1 करोड़ टन गेहूं बेचने का लक्ष्य है। गेहूं एक मास कमोडिटी है, वायदा में भले बेहद कम ट्रेड होता हो। लेकिन देश में इसका ट्रेड सबसे ज्यादा है, किसान, कारोबारी और मिलर्स सबका इससे वास्ता है।