Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

जेपी इंफ्राटेक के लिए अडानी ग्रुप की बोली खारिज, जानिए क्या है मामला?

प्रकाशित Tue, 21, 2019 पर 13:42  |  स्रोत : Moneycontrol.com

जेपी इंफ्राटेक (JIL) की कमिटी ऑफ क्रेडिटर्स (CoC) ने अडानी ग्रुप के बोली लगाने के निवेदन को खारिज कर दिया है। अडानी ग्रुप दिवालिया हो चुकी जेपी इंफ्राटेक के रिवाइवल के लिए बोली लगाना चाहती थी।


फाइनेंशियल टाइम्स के मुताबिक, इस मामले की जानकारी रखने वाले लोगों के मुताबिक, अडानी ग्रुप ने प्रस्ताव देने में देर कर दी। अडानी ग्रुप ने जब तक प्रस्ताव रखा तब तक CoC सुरक्षा रियल्टी की अगुवाई वाले कंसोर्शियम और NBCC के प्रस्तावों की जांच पड़ताल शुरू कर चुकी थी। सूत्रों के मुताबिक, CoC ने AIDPL (अडानी इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डिवेलपर्स) की बोली 14 मई की बैठक में खारिज कर दिया था।


सूत्रों ने बताया कि AIDPL का प्रस्ताव देर से आया। CoC तब तक सुरक्षा रियल्टी की अगुवाई वाले कंसोर्शियम के रिवाइज्ड बिल पर वोटिंग करने में व्यस्त थे। सुरक्षा रियल्टी के बाद CoC सरकारी कंपनी NBCC के रिवाइज्ड प्रस्ताव पर गौर करेगी।


क्या है AIDPL?


AIDPL, अडानी प्रॉपर्टीज की पूर्ण सहयोगी इकाई है। इस पर अडानी परिवार का मालिकाना हक है। यह कंपनी रियल एस्टेट का कारोबार करती है।


जेपी इंफ्राटेक का पहला कॉरपोरेट इनसॉल्वेंसी रेजोल्यूशन अगस्त 2017 में शुरू हुआ था। अडानी ने उसी वक्त अपना प्रस्ताव रखा था। अडानी के अलावा, लक्ष्यदीप बिल्डर्स, सुरक्षा ARC और एक ज्वाइंट वेंचर (कोटक इनवेस्टमेंट एडवाइजर्स और क्यूब हाइवे) ने बोली लगाने का प्रस्ताव रखा था। तब सुरक्षा ARC इस दौड़ में सबसे आगे थी। इसकी बोली सिर्फ 7350 करोड़ रुपए की थी। बोली की रकम बहुत कम होने की वजह से CoC ने तब इसे खारिज कर दिया था।


इसके बाद सुप्रीम कोर्ट में होमबायर्स की एक याचिका की सुनवाई में 9 अगस्त 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने रेजोल्यूशन प्रोफेशनल्स को निर्देश दिया था कि इनसॉल्वेंसी कोड के प्रावधानों के सभी पक्ष को नए सिरे से देखा जाए।


क्या है जेपी इंफ्रा की वैल्यू?


जेपी को सबसे ज्यादा लोन देने वाली IDBI ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है, कंपनी की असल वैल्यू 17,111 करोड़ रुपए है। जबकि इसकी डिस्ट्रेस वैल्यू 14,548 करोड़ रुपए है। JIL पर अलग-अलग बैंकों का 9000 करोड़ रुपए का कर्ज है। JIL के एसेट्स में 25,000 अपार्टमेंट्स और 3000 एकड़ जमीन है। इसकी ज्यादातर जमीनें यमुना एक्सप्रेसवे पर है।