Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

AGR मामला: भारती एयरटेल ने चुकाए 10,000 करोड़ रुपए

भारती एयरटेल पर कुल 35,586 करोड़ रुपए बकाया है, जो वह असेसमेंट के बाद चुकाएगी
अपडेटेड Feb 18, 2020 पर 10:01  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारती एयरटेल ने बताया है कि उसने AGR की बकाया राशि चुका दी है। कंपनी ने एक बयान जारी करते हुए बताया कि उसने कुल 10,000 करोड़ रुपए का पेमेंट कर दिया है। कंपनी ने यह पैसा भारती हेक्साकॉम (Bharti Hexacom) की तरफ से दिया है। भारती एयरटेल ने शुक्रवार को कहा था कि वह 20 फरवरी से पहले 10,000 करोड़ रुपए चुका देगी।


कंपनी ने कहा, "हम तेजी से सेल्फ असेसमेंट पूरा करने वाले हैं और यह पूरा होते ही हम सुप्रीम कोर्ट की अगली सुनवाई से पहले बकाया रकम चुका देंगे।"


टेलीकॉम डिपार्टमेंट ने शुक्रवार को टेलीकॉम कंपनियों को दी गई राहत वापस ले लिया था। अक्टूबर 2019 में सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि 23 जनवरी से पहले टेलीकॉम कंपनियां बकाया AGR चुका दें। हालांकि कंपनियों ने तब तक बकाया नहीं चुकाया और सुप्रीम कोर्ट में मॉडिफिकेशन याचिका दायर की। इस याचिका की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने टेलीकॉम कंपनियों और दूरसंचार विभाग के अधिकारी को कारण बताओ नोटिस भेजा था।


बकाया ना वसूल पाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने दूरसंचार विभाग को भी लताड़ लगाई थी। लिहाजा बकाया वसूली की रफ्तार बढ़ाने के लिए दूरसंचार ने शुक्रवार को टेलीकॉम कंपनियों की सारी राहत खत्म कर दी। 


जानिए किस कंपनी पर कितना है AGR बकाया


लाइव मिंट में छपी खबर के मुताबिक, उपलब्ध अनुमानों के अनुसार एयरटेल का लाइसेंस शुल्क समेत तकरीबन 35,586 करोड़ रुपये बकाया है।


वोडाफोन आइडिया का 53,000 करोड़ रुपए बकाया है। जिसमें 24,729 करोड़ रुपए स्पेक्ट्रम का बकाया और अन्य 28,309 करोड़ रुपए लाइसेंस शुल्क है।


इसी तरह टाटा टेलीसर्विसेज का तकरीबन 13,800 करोड़ रुपए बकाया है। BSNL का 4,989 करोड़ रुपये और MTNL का 3,122 करोड़ रुपए AGR बकाया है।


कुल 1.47 लाख करोड़ रुपए में से तकरीबन 1.13 लाख करोड़ रुपए की वसूली होने की संभावना है, क्योंकि जो अन्य कंपनियों का AGR बकाया है वो पहले ही अपना बिजनेस (कारोबार) समेट चुकी हैं।


रिलायंस कम्युनिकेशन्स (Reliance Communications) और एयरसेल (Aircel) इस समय insolvency proceeding के दौर से गुजर रही हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।