Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

AGR चुकाने की डेडलाइन आज, लेकिन सरकार को बकाया मिलने की उम्मीद कम

टेलीकॉम कंपनियों ने मॉडिफिकेशन याचिका दायर की है और सुनवाई के बाद ही वह पेमेंट करेंगी
अपडेटेड Jan 23, 2020 पर 16:49  |  स्रोत : Moneycontrol.com

वोडाफोन आइडिया (Vodafone-Idea) ने दूरसंचार विभाग को सूचित किया है कि वह सरकार को AGR की बकाया रकम फिलहाल नहीं चुकाएगी। यह रकम चुकाने की आखिरी तारीख आज यानी 23 जनवरी है। टेलीकॉम कंपनियों ने सुप्रीम कोर्ट में मॉडिफिकेशन याचिका (Modification Plea) दायर की है।


वोडाफोन आइडिया का कहना है कि यह मामला अभी अदालत में है। लिहाजा मॉडिफिकेशन याचिका पर सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई तक वह बकाया नहीं चुकाएगी। माना जा रहा है कि भारती एयरटेल भी आज बकाया रकम नहीं चुकाएगी। सुप्रीम कोर्ट मॉडिफिकेशन याचिका पर अगले हफ्ते सुनवाई करेगा।


इकोनॉमिक टाइम्स के मुताबिक, एक सरकारी अधिकारी ने बताया, "हमें वोडाफोन आइडिया की तरफ से हमें जानकारी मिली है कि कंपनी मॉडिफिकेशन याचिका पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजामर कर रही है। इस मामले में कोई पेमेंट करने से पहले कंपनी फैसले का इंतजार करेगी।" इस मामले में फिलहाल वोडाफोन और भारती एयरटेल ने कुछ कहने से इनकार कर दिया।


दूरसंचार विभाग के अधिकारी ने कहा, "यह सच है कि सुप्रीम कोर्ट ने मॉडिफिकेशन याचिका को स्वीकार कर लिया है। लेकिन उसने यह नहीं बताया है कि टेलीकॉम कंपनियों को AGR चुकाने की जरूरत है या नहीं। तकनीकी तौर पर देखा जाए तो यह मामला उलझा हुआ है।"


उन्होंने कहा कि दूरसंचार विभाग फिलहाल टेलीकॉम कंपनियों पर कोई कार्रवाई नहीं करेगा। डिपार्टमेंट 24 जनवरी तक इंतजार करेगा। अक्टूबर 2019 में सुप्रीम कोर्ट ने यह फैसला सुनाया था कि 23 जनवरी तक टेलीकॉम कंपनियों को AGR की बकाया रकम चुकाना है। अधिकारी का कहना है कि सरकार 24 जनवरी या फिर सुप्रीम कोर्ट की अगली सुनवाई तक इंतजार कर सकती है।


कितना है बकाया रकम?


अदालत को यह सूचित किया गया है कि टेलीकॉम कंपनियों ने अभी तक कोई पेमेंट नहीं किया है। 21 जनवरी को जब टेलीकॉम कंपनियों की मॉडिफिकेशन याचिका कोर्ट ने स्वीकार की तो दूरसंचार विभाग ने अपना विरोध नहीं जताया था।   


वोडाफोन आइडिया, भारती टेलीकॉम और टाटा टेलीसर्विसेज को मिलाकर कुल 1.02 लाख करोड़ रुपए सरकार को मिलना है। टेलीकॉम कंपनियों का कहना था कि शुरुआत में वह डेडलाइन खत्म होने से पहले कुछ रकम चुका देते। इकोनॉमिक टाइम्स के मुताबिक, अभी तक रिलायंस जियो इकलौती कंपनी है जिसने पूरी बकाया रकम 200 करोड़ रुपए चुका दिया है।


वोडाफोन आइडिया पर 53,039 करोड़ रुपए और भारती एयरटेल पर 35,586 करोड़ रुपए का बकाया है। टाटा टेलीसर्विसेज पर 13,823 करोड़ रुपए का बकाया है। टाटा ने अपना कंज्यूमर मोबिलिटी बिजनेस भारती एयरटेल को बेच दिया है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।