Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

चाइनीज माल से परेशान Amazon, बंद करेगा अपनी दुकान!

प्रकाशित Thu, 18, 2019 पर 17:40  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अलीबाबा और जेडी डॉट कॉम जैसे चीनी ई-कॉमर्स कंपनियों के सामने चीन में जूझ रहा एमेजॉन जल्द ही वहां अपना मार्केटप्लेस बिजनेस बंद करने वाला है। अब कंपनी अपने ग्राहकों को लोकल स्टोर्स से सामान उपलब्ध कराने की जगह खास तौर पर ओवरसीज प्रॉडक्ट्स बेचने पर फोकस करेगी।


ये भी कहा जा रहा कि कंपनी चीन में अपने ऑनलाइन स्टोर्स को बंद कर खासतौर पर भारत के बाजार पर फोकस करना चाहती है।


इकोनॉमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक, एमेजॉन चीन अपना मार्केटप्लेस बिजनेस जुलाई तक ही खुला रखेगा। यानी एमेजॉन के चीनी ग्राहक जुलाई के बाद कंपनी की साइट पर बस ओवरसीज प्रॉडक्ट्स की ही शॉपिंग कर पाएंगे। कंपनी अपने प्लेटफॉर्म पर थर्ड पार्टी के प्रॉडक्ट्स नहीं बेचेगी।


हालांकि, एमेजॉन की वेब सर्विसेज, किंडल ई-बुक्स, ओवरसीज शॉपिंग और डिलीवरी जैसे बिजनेस चलते रहेंगे।


दरअसल, एमेजॉन चीन के लोकल मार्केट में काफी वक्त से स्ट्रगल कर रहा है। अलीबाबा और जेडी डॉट कॉम जैसी कंपनियों ने पिछले वक्त में अपना लोकल मार्केट बिजनेस तो मजबूत किया ही है अपने ओवरसीज मार्केट तक भी पहुंच बनाई है। लेकिन एमेजॉन का मार्केट शेयर यहां घटता ही गया है।


2004 में कंपनी पहली बार चीन आई थी। यहां उसने एक ऑनलाइन स्टोर को खरीदा था। 2007 में कंपनी ने अपनी रीब्रांडिंग की। 2011 और 12 के फाइनेंशियल ईयर में कंपनी का मार्केट शेयर 15 फीसदी के आस-पास था लेकिन अब ये शेयर एक प्रतिशत के पास पहुंच गया है।


हालांकि, कंपनी अपने चीनी लोकल बिजनेस को बंद करने का फैसला तब ले रही है, जब उसकी तरफ से भारत में बहुत बड़े स्तर पर निवेश किया जा रहा है। कंपनी यहां ई-कॉमर्स का सबसे बड़ा प्लेयर बनना चाहती है। उसका मुकाबला यहां फ्लिपकार्ट से होगा, जिसमें अमेरिकन कंपनी वॉलमार्ट का स्टेक भी शामिल है।


एमेजॉन ने कहा है कि वो भारत के ई-कॉमर्स सेक्टर में 5.5 बिलियन डॉलर का निवेश करने वाली है।