Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

आंध्र प्रदेश के CM ने की रुइया अस्पताल में मरने वालों के परिजनों को 10-10 लाख मुआवजा देने की घोषणा

घटना के तुरंत बाद मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने मामले की जांच का आदेश दे दिया था
अपडेटेड May 11, 2021 पर 16:48  |  स्रोत : Moneycontrol.com

आंध्र प्रदेश सरकार ने सोमवार रात तिरुपति के रुइया अस्पताल में मरने वालों के परिवारों के लिए 10-10 लाख रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की है। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगनमोहन रेड्डी (Andhra Pradesh CM YS Jagan Mohan Reddy) ने मंगलवार को मुआवजे का ऐलान किया। आंध्र प्रदेश के तिरुपति (Tirupati) स्थित श्री वेंकटेश्वर रामनारायण रुइया अस्पताल (SVRR) में ऑक्सीजन मिलने में देरी होने के चलते कम से कम 11 मरीजों की मौत हो गई।


घटना के तुरंत बाद मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने मामले की जांच का आदेश दिया था। रेड्डी ने कहा कि घटना की वजहों की पहचान होनी चाहिए और यह सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाए जाने चाहिए कि ऐसी घटनाएं दोबारा न हों। सीएम ने अधिकारियों को 24 घंटे राज्य के हर अस्पताल की स्थिति पर नजर रखने का भी आदेश दिया। उन्होंने अधिकारियों को ऑक्सीजन की आपूर्ति के अलावा अस्पतालों में ऑक्सीजन सिस्टम के प्रबंधन पर विशेष ध्यान देने का निर्देश दिया।


बताया जा रहा है कि ऑक्सीजन टैंकर (Oxygen Crisis) के पहुंचने में कुछ मिनटों की देरी हो गई थी, जिसकी वजह से चित्तूर जिले में स्थित सरकारी अस्पताल में सोमवार को ये दर्दनाक घटना हुई। रिपोर्ट्स के मुताबिक, चित्तूर के जिला कलेक्टर एम. हरिनारायणन ने कहा कि तमिलनाडु के श्रीपेरंबुदूर से SVRR अस्पताल में ऑक्सीजन टैंकर के आने में देरी के कारण ऑक्सीजन की सप्लाई में लगभग 5 से 10 मिनट के लिए व्यवधान आया था।


जिलाधिकारी ने कहा कि अस्पताल में ऑक्सीजन टैंकर के आने के तुरंत बाद, ऑक्सीजन की सप्लाई बहाल कर दी गई, लेकिन उस समय तक, कोरोना वायरस का इलाज करा रहे 11 लोगों की मौत हो गई। डीएम ने कहा कि हम ऑक्सीजन की सप्लाई बहाल करके और मौतों को रोकने में सफल रहे। इस अस्पताल में करीब 1,000 रोगियों का इलाज चल रहा था और ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित होने से कई मरीजों को सांस लेने में गंभीर समस्या उत्पन्न हो गई।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें.