Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

पिछले 5 साल में बैंक, IT और FMCG ने दिया 50% से ज्यादा रिटर्न, आगे क्या हो रणनीति

प्रकाशित Wed, 22, 2019 पर 16:41  |  स्रोत : Moneycontrol.com

पिछले 5 साल में दलाल स्ट्रीट ने कई रिकॉर्ड बनाए हैं। इंडिविजुअल शेयर परफॉर्मेंस की बात करें तो कई शेयरों ने भी इस दौरान अच्छे रिटर्न दिए हैं।


लगातार बढ़ते NPA के संकट के बावजूद बैंकिंग इंडेक्स में कोई कमजोरी नजर नहीं आ रही है। इस दौरान IT सेक्टर में भी मजबूती रही। कुल मिलाकर मार्केट को देखें तो उसने भी निवेशकों को निराश नहीं किया है।


26 मई 2014 को पीएम नरेंद्र मोदी ने शपथ ग्रहण किया था। तब से लेकर 21 मई 2019 के बीच तक S&P BSE Banking Index में 94 फीसदी की तेजी आ चुकी है। इसके बाद IT शेयरों ने 78 फीसदी का रिटर्न दिया। 73 फीसदी रिटर्न के बाद FMCG तीसरे नंबर पर है। समूचे मार्केट पर नजर डालें तो इस दौरान मिडकैप इंडेक्स 73 फीसदी और स्मॉल कैप 60 फीसदी तक उछल चुका है। जबकि सेंसेक्स में 57 फीसदी तेजी दर्ज की गई है।


पिछले 5 साल में पावर शेयरों में 13 फीसदी तक की गिरावट आई है। एस इक्विटी के आंकड़ों के मुताबिक, इस दौरान मई 2014 से मेटल इंडेक्स में 15 फीसदी की गिरावच आ चुकी है।


क्या करें निवेशक?


ऐसे में सवाल यह है कि निवेशकों की आगे की स्ट्रैटेजी क्या होनी चाहिए। बैंकिंग और कंजम्प्शन के शेयरों में उन्हें कैसे आगे बढ़ना चाहिए। इस साल निवेशक कुछ प्राइवेट बैंक, कंजम्पशन, OMC और IT के शेयरों में निवेश कर सकते हैं। प्रभुदास लीलाधर के CEO (रिटेल-डिस्ट्रीब्यूशन) संदीप रायचुरा ने कहा कि इंडियन मार्केट में निवेश के लिहाज से डोमेस्टिक कंजम्शन पर आगे भी फोकस बना रहेगा।


कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग के सीईओ राजीव सिंह ने कहा कि बैंकों की क्रेडिट क्वालिटी सुधरी है। इससे बैंकिंग शेयरों में तेजी रह सकती है। कंज्यूमर और ऑटो सेक्टर्स ने निवेशकों को निराश किया है। मजबूत सरकार से जिन सेक्टर्स को सबसे ज्यादा फायदा होगा उनमें खासतौर पर बैंकिंग, कैपिटल गुड्स, ऑटो और आईटी सेक्टर को फायदा होगा।