Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

केमिकल कंपनी मॉनसैंटो को देना होगा 2 अरब डॉलर का मुआवजा

प्रकाशित Wed, 15, 2019 पर 14:32  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Monsanto। केमिकल की दिग्गज कंपनी बेयर की मॉनसैंटो और इसकी वीडकिलर राउंडअप को तगड़ा कानूनी झटका लगा है। कैलिफोर्निया की एक जूरी ने सोमवार को अपने फैसले में कंपनी पर
पर 2 अरब डॉलर का जुर्माना लगाया गया है। कैलिफोर्निया की एक जूरी ने अपने फैसले में मॉनसैंटो पर यह जुर्माना ठोका है। कंपनी पर एक दंपत्ति ने आरोप लगाया था कि उसके प्रोडक्ट से उन्हें कैंसर हुआ है।


ग्लाईफोसेट आधारित उत्पादों को लेकर कंपनी पर कई केस चल रहे हैं। कंपनी की दलील है कि इसके वीडकिलर से कैंसर नहीं होता है। लेकिन नए फैसले के बाद कंपनी को अपने इस प्रोडक्ट पर रोक लगानी होगी।


कंपनी के खिलाफ जिस दंपत्ति ने केस किया था, उन्होंने इसे ऐतिहासिक करार दिया है। उन्हें 5.50 करोड़ डॉलर का मुआवजा जोड़कर टोटल 2 अरब डॉलर मिले हैं।
प्लेनटिफ के काउंसिल ब्रेंट विस्नेर ने कहा, जूरी ने कंपनी के अंदरूनी दस्तावेज देखे हैं और उनसे पता चलता है कि कंपनी ने पहले दिन से ही इस बात की फिक्र नहीं की है कि राउंडअप सेफ है या नहीं। वे साउंट साइंस में जांच पड़ताल करने के बजाय अटैकिंग साइंस पर जोर दे रहे थे।


जून 2018 में 63 अरब डॉलर में मॉनसैंटो को खरीदने के बाद जर्मनी की दिग्गज केमिकल कंपनी बेयर का मार्केट कैप 45 फीसदी घट गया है। कंपनी के मालिक बेयर ने कहा कि उन्हें जूरी के फैसले से बेहद निराशा हुई है। और वह इस फैसले को चुनौती देंगे।


इससे पहले 2018 में अमेरिका में मॉनसैंटो पर केस हुआ था। कंपनी पर आरोप था कि वह राउंडअप के संभावित जोखिमों के बारे में जरूरी कदम नहीं उठाए हैं।