Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

फ्यूचर ग्रुप की शिकायत के बाद CCI ने लगाए थे एमेजॉन पर आरोप

एमेजॉन और फ्यूचर ग्रुप की यूनिट के बीच डील को दी गई मंजूरी रद्द की जा सकती है
अपडेटेड Jul 24, 2021 पर 00:27  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कॉम्पिटिशन कमीशन ऑफ इंडिया (CII) ने पिछले महीने ई-कॉमर्स कंपनी Amazon पर फ्यूचर ग्रुप की यूनिट में इनवेस्टमेंट को लेकर तथ्यों को छिपाने और गलत जानकारी देने का आरोप लगाया था। इससे पहले फ्यूचर ग्रुप की ओर से CII को एमेजॉन के खिलाफ एक शिकायत दी गई थी।


फ्यूचर ग्रुप ने शिकायत में कहा था कि एमेजॉन ने उसकी यूनिट फ्यूचर कूपन्स प्राइवेट लिमिटेड (FCL) को 2019 में खरीदने के लिए अप्रूवल लेने के दौरान उनके कॉन्ट्रैक्ट के कुछ हिस्सों को छिपाया था।


रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) को अपने रिटेल एसेट्स बेचने की फ्यूचर ग्रुप की डील में एमेजॉन एक बड़ी रुकावट बनी हुई है।


इस मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने बताया कि फ्यूचर ग्रुप ने CII को लिखे एक पत्र में कहा था कि अगर एमेजॉन ने फ्यूचर रिटेल लिमिटेड पर अपने कथित अधिकारों के बारे में रेगुलेटर को जानकारी दी होती तो  FCL के साथ डील के लिए अनुमति नहीं मिलती।


एक सूत्र ने कहा कि CCI अब अपने ऑर्डर पर दोबारा विचार कर सकता है और एमेजॉन और FCL के बीच डील को रद्द भी किया जा सकता है। इससे रिलायंस इंडस्ट्रीज के लिए फ्यूचर ग्रुप के रिटेल एसेट्स को खरीदने का रास्ता बन जाएगा।


जिंदल ग्रुप के इस स्टॉक ने एक वर्ष में शेयरहोल्डर्स को दिया तिगुना रिटर्न


RIL और एमेजॉन के बीच देश के रिटेल सेक्टर में दबदबा बनाने के लिए मुकाबला चल रहा है। इसमें फ्यूचर ग्रुप के रिटेल एसेट्स की एक बड़ी भूमिका हो सकती है। फ्यूचर ग्रुप के पास देश भर में हायपरमार्केट्स, सुपरमार्केट्स और बिग बाजार, ईजीडे, ईजोन जैसे ब्रांड्स के साथ कन्विनिएंस स्टोर्स मौजूद हैं।


एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर CII को एमेजॉन और FCL के बीच कॉन्ट्रैक्ट तो इस डील को अनुमति मिलना मुश्किल हो सकता था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।