Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

कोल इंडिया के मजदूर संगठनों की हड़ताल दूसरे दिन भी जारी

कोल इंडिया के करीब 4.50 लाख श्रमिक हड़ताल पर हैं
अपडेटेड Jul 04, 2020 पर 11:14  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोल इंडिया (Coal India)  के श्रमिक संगठनों की हड़ताल शुक्रवार को दूसरे दिन भी जारी रही। यह हड़ताल कोयला क्षेत्र में वाणिज्यिक खनन की अनुमति देने के विरोध में बुलायी गयी है। श्रमिक संगठनों के नेताओं ने प्रबंधन की ओर से हड़ताल खत्म करने का दबाव बनाये जाने का दावा भी किया है। राष्ट्रय स्वयंसेवक संघ के समर्थित भारतीय मजदूर संघ समेत कुल पांच ट्रेड यूनियनें कोल इंडिया लिमिटेड में काम करती हैं। इन श्रमिक संगठनों ने बृहस्पतिवार से तीन दिन की हड़ताल शुरू की है जो शुक्रवार को दूसरे दिन भी जारी रही।


हिंद मजदूर संघ समर्थित हिंद खदान मजदूर फेडरेशन के अध्यक्ष नाथूलाल पांडे ने कहा, ‘‘ शुक्रवार को हड़ताल का रुख और व्यापक हो गया। विभिन्न कारणों के चलते जो श्रमिक-कर्मचारी बृहस्पतिवार को इसमें शामिल नहीं हो पाए थे उन्होंने भी शुक्रवार को हड़ताल का साथ दिया।’’ सीटू समर्थित ऑल इंडिया कोल वर्कर्स फेडरेशन के डी. डी. रमानंदन ने कहा कि अभी तक हड़ताल के कमजोर पड़ने या उसमें कोई बाधा आने की कोई खबर नहीं है। साथ ही हड़ताल की वजह से किसी भी तरह की बड़ी हिंसा की भी कोई खबर नहीं है।


ट्रेड यूनियनों के नेताओं में से एक ने आरोप लगाया कि प्रबंधन हड़ताल पर गए कर्मचारियों पर इसे खत्म करने के लिए दबाव बना रहा है। उन्हें धमकाया जा रहा है कि वे तत्काल खनन के कार्य को सुचारू बनाएं। उनसे कहा गया है कि वे राष्ट्रहित में परिचालन को सामान्य करने का निर्णय लें अन्यथा उनके ऊपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।


उन्होंने कहा कि कोल इंडिया ने अपनी अनुषंगी कंपनियों के महाप्रबंधकों और वरिष्ठ अधिकारियों को शुक्रवार सुबह पांच बजे खानों पर पहंचकर खनन शुरू कराने के निर्देश दिए थे। कंपनी प्रबंधन ने महाप्रबंधकों से बाहरी स्रोतों से मजदूर बुलाकर काम कराने के लिए भी कहा है। सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियन (सीटू) के महासचिव तपन सेन ने कहा कि यह हड़ताल पूरी तरह से जारी है। हालांकि पश्चिम बंगाल में पुलिस ने कुछ एक जगहों पर मजदूर एकता को तोड़ने की कोशिश की है।


इंटक समर्थित इंडियन नेशनल माइनवर्कर्स फेडेरेशन के महासचिव एस. क्यू. जामा ने कहा कि शुक्रवार को हड़ताल बृहस्पतिवार के मुकाबले और मजबूत हुई। सिंगरेनी कोलरीज कंपनी में हड़ताल 95 प्रतिशत सफल रही। जामा ने कहा कि करीब साढ़े चार लाख श्रमिक हड़ताल पर हैं। इसमें तीन लाख करीब कोल इंडिया के, 50,000 सिंगरेनी कोलरीज के और बाकी अनुबंध पर काम करने वाले श्रमिक हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।