Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

कंपनी के प्रमोटर और इनसाइडर्स 30 जून तक नहीं खरीद सकते शेयर

सेबी ने कंपनियों के नतीजों के दौरान लागू होने वाले ट्रेडिंग प्रतिबंधों से छूट देने से इनकार कर दिया
अपडेटेड Apr 02, 2020 पर 17:32  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना वायरस की मार दुनिया में पड़ रही है। इसकी वजह से दुनिया की अर्थव्यवस्था पर इसका असर पड़ा है। कोरोना वायरस की वजह से देश में लॉकडाउन भी घोषित हो गया साथ ही कई तरह के नियमों में भी बदलाव हो गए हैं। ऐसे लॉकडाउन की वजह से कंपनियों को अपने नतीजे घोषित करने के लिए छूट दिया है। सेबी ने प्रमोटर्स और कंपनियों के इनसाइडर्स को 30 जून तक शेयर नहीं खरीदने के लिए कहा है।


कारोबारियों ने कंपनियों के नतीजों के दौरान लगने वाले प्रतिबंध से छूट की मांग की थी, जिसे सेबी ने इनकार कर दिया है।
रेगुलेटर ने हाल ही में लिस्टेड कंपनियों को चौथी तिमाही और सालाना कमाई को 31 मई के बजाय 30 जून तक घोषित करने की अनुमति दी थी। इसका मतलब ये हुआ कि तिमाही नतीजों की घोषणा के बाद 1 अप्रैल से 48 घंटे तक प्रमोटर्स और मैनेजमेंट के लिए ट्रेडिंग विंडो बंद करनी होगी। 


इनसाइडर्स और प्रमोटर्स के पास फिस्कल ईयर 2020 में कुछ ऐसी जानकारी हो सकती है, जिसका वो अपने हित के लिए फायदा उठा सकते हैं।


सेबी के एक अधिकारी का कहना है कि ट्रेडिंग विंडो की तारीख को न बढ़ाने की वजह ये है कि इनसाइडर और दूसरी फर्मों के पास ऐसी जानकारी हो सकती है, जिससे इनसाइडर ट्रेडिंग का खतरा हो सकता है। लिहाजा इस पर रोक लगा दी गई है। 
बता दें कि सेबी के नियमों के तहत कंपनियों को फिस्कल ईयर के आखिरी के 60 दिनों के भीतर स्टॉक एक्सचेंजों को अपनी एनुअल रिपोर्ट जारी करना जरूरी होता है।


उधर इस मामले में कंपनियों ने कहा कि सेबी के उनकी मांग पर इनकार से प्रमोटरों और इनसाइडर्स पर ट्रेडिंग का प्रतिबंध और बढ़ जाएगा, जो पहले ही फिस्कल ईयर के लगभग 7 महीने यानी 202 दिन के लिए लागू होता है।
वहीं जानकारों का मानना है कि सेबी को इस तरह के नियमों में ढील दी जानी चाहिए। जिससे कि स्टेक होल्डर निर्धारत कानून से अपने असेट को लिक्विडेट कर सकें। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।