Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

1 डॉलर की कीमत 72 के पार, क्या होगा आप पर असर

प्रकाशित Fri, 07, 2018 पर 10:24  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

क्या रुपया अब राम भरोसे हो चला है रोज रोज की गिरावट से तो यही लग रहा है। आज रुपया और गिरा और एक डॉलर की कीमत 72 रुपये  के पार चली गई। पिछले 7 दिनों की बात करें तो रुपया 3 फीसदी तक टूटा है। रुपये की कमजोरी ने आम आदमी से लेकर सरकार तक सबकी मुश्किलें बढ़ा दी हैं। हम रोज आप को बता रहे हैं कि रुपया कमजोर होने से हर तरह का ईंधन महंगा हो रहा है और इसका असर सीधा आपकी जेब पर पड़ रहा है।


रुपये की कमजोरी की वजहों की बात करें तो ब्रेंट के 78 डॉलर पर पहुचने से सीएडी बढ़ने की आशंका है। बॉन्ड यील्ड में बढ़त से बैंक दबाव में हैं। ट्रेडर्स, हेज फंड्स ने लॉन्ग पोजीशन बनाई है। बॉन्ड यील्ड बढ़ने से भी रुपये पर दबाव बना है। करेंसी बाजार में आरबीआई का दखल भी फेल हो गया है। इमर्जिंग देशों की करेंसी के मुकाबले डॉलर मजबूत हुआ है।


जाने-माने बैंकर, कोटक महिंद्रा बैंक के एमडी उदय कोटक ने रुपये की गिरावट पर फिक्र जताई है। उन्होंने कहा है कि छोटी अवधि में तो रुपये की गिरावट से एक्सपोर्ट में बढ़त दिख सकती है लेकिन अगर रुपये की कमजोरी लंबे वक्त तक जारी रही तो करेंट अकाउंट घाटे में तेज उछाल आने का डर है।


भले ही वित्त मंत्री कह रहे हैं कि चिंता की जरूरत नहीं है लेकिन रुपये की गिरती कीमत अब महंगाई की वजह बन रही है। पहले ट्रकों के भाड़े में बढ़ोतरी और अब मोबाइल, फ्रिज और टीवी जैसी चीजें के दाम भी बढ़ने वाले हैं। रुपये की कीमत में सुधार नहीं हुआ तो बहुत जल्द कंज्यूमर ड्यूरेबल्स के दाम 5 से लेकर 10 फीसदी तक बढ़ जाएंगे। आप फ्रिज, टीवी, वाशिंग मशीन या मोबाइल खरीदने के लिए फेस्टिवल सीजन का इंतजार कर रहे होंगे। मगर तो हो सकता है ये इंतजार आपको महंगा पड़े।


डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत ने कंपनियों को परेशानी में डाल दिया है। रुपये में अब तक की सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिली है और जानकार मानते हैं कि ये गिरावट अभी और बढ़ेगी या कम से कम कायम रहेगी-मोबाइल और कंज्यूमर डयूरेबल कंपनियां अभी तक रुपये की चाल देख रही है। लेकिन अगर हालात नहीं सुधरते तो दाम बढ़ाने की तैयारी भी है। फीचर्स फोन में सबसे कम मार्जिन होता है। इसलिए पहले उनके दाम बढ़ेंगे। फिर स्मार्ट फोन का नंबर आएगा।


मोबाइल और कंज्यूर गुड्स जैसे उत्पादों के लिए वैसे मोटा पैसा खर्च करना पड़ता है। इसलिए अगर आप किसी ऐसी कोई चीज खरीदने वाले हैं तो दाम बढ़ने से पहले खरीदारी में ही समझदारी है।