Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

COVID-19 Impact: उबर ने भारत में 600 कर्मचारियों को कंपनी से निकाला

कंपनी ने ग्लोबल रिस्ट्रक्चरिंग करने की घोषणा की थी। भारत में जो कमर्चारियों की छंटनी की गई है, यह उसी का एक हिस्सा है
अपडेटेड May 26, 2020 पर 17:20  |  स्रोत : Moneycontrol.com

पूरी दुनिय में कोरोना वायरस से आर्थिक हालत खराब हो रहे हैं। कंपनियां फाइनेंशियल क्राइसेस से जूझ रही हैं। उबर इंडिया (Uber India) ने भी मंगलवार को कहा कि वो अपने 600 कर्मचारियों निकालने का निर्णय लिया है। जिसमें ड्राइवर, बिजनेस डेवलपमेंट, मार्केटिंग, और दूसरे विभागों से जुड़े हुए लोग हैं। यह देश में 2,400 कर्मचारियों के एक चौथाई है।


गौरतलब है कि कंपनी ने ग्लोबल रिस्ट्रक्चरिंग करने की घोषणा की थी। भारत में जो कमर्चारियों की छंटनी की गई है, यह उसी का एक हिस्सा है। पूरे देश में कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन घोषित किया गया है। लिहाजा कंपनी फाइनेंशियल क्राइसेस से जूझ रही है।


कंपनी ने अपने बयान में कहा है कि जिन कर्मचारियों की छंटनी की गई है उन्हें 10-12 हफ्ते की सैलरी दी जाएगी। साथ ही उनको अगले छह महीने तक मेडिकल इंश्योरेंस दिया जाएगा। इसके अलावा कंपनी निकाले गए कर्मचारियों को दूसरी जगह जॉब देने में भी सहयोग करेगी।


Covid-19 के प्रभाव के चलते उबर इंडिया को कर्मचारियों को अपने यहां से निकालने के सिवाय कोई चारा नहीं बचा था। उबर इंडिया और साउथ एशिया (Uber India and South Asia) के प्रेसीडेंट प्रदीप परमेश्वरण (Pradeep Parameswaran) ने कहा कि तकरीबन 600 कर्मचारियों को निकालने का निर्णय लिया है। जिसमें ड्राइवर, राइडर सपोर्ट जैसे कर्मचारी शामिल हैं।


महामारी की शुरुआत से अब तक उबर ग्लोबल स्तर पर 6,700 कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखा चुका है।


उबर परिवार और कंपनी को छोड़ने वाले कर्मचारियों के लिए आज यह एक दुखद दिन है। अभी हमने जो फैसला लिया है, भविष्य में हम आत्मविशअवास के साथ आगे बढ़ सकते हैं। परमेश्वरण ने अपने बयान में आगे कहा है कि जो कर्मचारी आज से नौकरी छोड़ रहे हैं मैं उनसे माफी चाहता हूं। मैं उन सभी कर्मचारियों को धन्यवाद देता हूं जो हमसे जुड़े रहे।
 
सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।