Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

Exclusive: Thyrocare को 7,000 करोड़ रुपये में खरीदने की तैयारी में PharmEasy

PharmEasy की पैरेंट कंपनी API Holdings की IPO लाने की योजना है
अपडेटेड Jun 17, 2021 पर 19:26  |  स्रोत : Moneycontrol.com

डायग्नोस्टिक्स सर्विसेज कंपनी Thyrocare को लगभग 7,000 करोड़ रुपये में खरीदने के लिए PharmEasy अंतिम दौर की बातचीत कर रही है। इस डिवेलपमेंट की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने मनीकंट्रोल को बताया कि डील की घोषणा जल्द की जा सकती है। PharmEasy की पैरेंट कंपनी API Holdings की IPO लाने की योजना है।


API Holdings ने हाल ही में PharmEasy की राइवल फर्म मेडलाइफ को एक्वायर किया था। मनीकंट्रोल ने पिछले महीने रिपोर्ट दी थी कि API Holdings इस फाइनेंशियल ईयर में IPO के जरिए 1.2 अरब डॉलर जुटा सकती है।


Thyrocare के प्रमोटर्स अपनी हिस्सेदारी बेच सकते हैं जिससे कंपनी के शेयरहोल्डर्स के लिए एक ओपन ऑफर आ सकता है। प्रमोटर्स के पास मार्च के अंत में कंपनी में 66.14 प्रतिशत हिस्सेदारी थी।


API Holdings के पास Thyrocare के लिए डील और IPO के बाद दो लिस्टेड कंपनियां हो सकती हैं। IPO के लिए मॉर्गन स्टेनली और कोटक एडवाइजर हैं।


इस बारे में API Holdings ने कोई टिप्पणी करने से मना कर दिया। मनीकंट्रोल की ओर से Thyrocare को ईमेल से भेजे गए प्रश्नों का उत्तर नहीं मिला।


IPO लाने से पहले API Holdings अपने पोर्टफोलियो को मजबूत कर रही है। कंपनी की ओर से मेडलाइफ को खरीदने के बाद PharmEasy देश की सबसे बड़ी ऑनलाइन मेडिसिन डिलीवरी कंपनी बन गई है। पूर्व बैंकर आदित्य पुरी हाल ही में कंपनी के बोर्ड में शामिल हुए हैं। इससे कंपनी को बिजनेस बढ़ाने में मदद मिल सकती है।


सूत्रों ने बताया कि Thyrocare में उत्तराधिकार की योजना नहीं होने के कारण कंपमी के फाउंडर डा. ए वेलुमणि शायद अच्छा वैल्यूएशन मिलने पर कंपनी को बेच रहे हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।