Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

टैक्स घटने से विदेशी निवेशकों को रास आया इंडियन मार्केट, सितंबर में 7,714 करोड़ रुपये किए निवेश

SEBI ने FPI के लिए KYC नियमों में ढील दी और उन्हें सिक्योरिटीज मार्केट में ट्रांजैक्शन करने की मंजूरी दे दी।
अपडेटेड Sep 30, 2019 पर 11:14  |  स्रोत : Moneycontrol.com

फाइनेंस मिनिस्टर का मास्टर स्ट्रोक फिलहाल काम कर गया। फॉरेन इन्वेस्टर्स ने इंडियन मार्केट में जोरदार तरीके से इन्वेस्ट बढ़ाया है। जो पहले तेजी से अपने पैसे निकाल रहे थे, वो अब तेजी से पैसे डाल रहे हैं। फॉरेन इन्वेस्टर ने सितंबर महीने में 7,714 करोड़ रुपये इन्वेस्ट किए हैं। सरकार के आर्थिक सुधारों और बजट में  FPI पर  लगाए गए सरचार्ज को वापस लेने से फॉरेन इन्वेस्टर्स को इंडियन मार्केट रास आने लगा और उन्होंने अपना निवेश बढ़ा दिया है।


केंद्र सरकार ने पिछले हफ्ते कॉरपोरेट टैक्स में तकरीबन 10 फीसदी की कटौती कर दी थी। साथ ही FPI के किसी सिक्योरिटीज, डेरिवेटिव की बिक्री से पर कैपिटल गेन पर बढ़े हुए सरचार्ज को खत्म कर दिया था।


इसके अलावा SEBI ने FPI के लिए KYC नियमों सरल किया और और उन्हें सिक्योरिटीज मार्केट में ट्रांजैक्शन करने की मंजूरी दे दी।


ताजे आंकड़ों के मुताबिक, FPI ने 3 से 27 सितंबर के बीच इक्विटी मार्केट में 7,849.89 करोड़ रुपये डाले, जबकि डेट सेगमेंट से 135.59 करोड़ रुपये निकाले। इस तरह उन्होंने मार्केट में कुल 7,714.30 करोड़ रुपये इन्वेस्ट किए। 


इससे पहले FPI ने डोमेस्टिक कैपिटल मार्केट से अगस्त महीने में 5,920.02 करोड़ रुपये और जुलाई में 2,985.88 करोड़ रुपये निकाले थे।  


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।