Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

फ्रैंकलिन टेम्पल्टन ने रिफंड के लिए निवेशकों से संपर्क करना शुरू किया, जानिए कब तक मिलेगा पैसा

जिन निवेशकों के सिर्फ फोन नंबर हैं, कंपनी उन्हें फोन करके PAN और ईमेल आईडी की डिटेल मांग रही है
अपडेटेड May 12, 2020 पर 18:14  |  स्रोत : Moneycontrol.com

फ्रैंकलिन टेम्पल्टन इंडिया (Franklin Templeton India) ने  जिन 6 डेट स्कीम्स को बंद किया है उसके निवेशकों से संपर्क करना शुरू किया है। फंड हाउस 3 लाख निवेशकों से संपर्क कर रही है जिनका पैसा इन 6 स्कीम्स में फंसा है। मार्केट रेगुलेटर सेबी ने पिछले हफ्ते कंपनी को कहा था कि वह पैसे लौटाने पर फोकस करे।


इससे पहले फ्रैंकलिन टेम्पल्टन की ग्लोबल प्रेसिडेंट जेनिफर एम जॉनसन ने कहा था कि मार्केट रेगुलेटर की एक गाइडलाइंस की वजह से उसकी मुश्किल बढ़ गई है। इसके बाद सेबी ने कहा था कि फ्रैंकलिन रेगुलेटर की गलतियां निकालने के बजाय निवेशकों का पैसा लौटाने पर फोकस करे।


इसके बाद फ्रैंकलिन टेम्पल्टन ने सार्वजनिक तौर पर रेगुलेटर से माफी मांगी और निवेशकों से संपर्क करना शुरू किया। लाइव मिंट के मुताबिक, निवेशकों से उनका PAN, फोलियो नंबर, ईमेल आईडी जैसी जरूरी डिटेल मांगी जा रही है।


इस मामले की जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने बताया कि इस हफ्ते के अंत में फंड हाउस निवेशकों के लिए एक अहम ई-वोटिंग प्रोसेस शुरू करेगा ताकि स्कीम बंद करने की प्रक्रिया शुरू हो सके।


इन 6 स्कीम्स म्यूचुअल फंड नियमों के रेगुलेशन 41 के तहत बंद किया जा रहा है। अभी तक एसेट मैनेजमेंट कंपनी (AMC) ने स्कीम्स बंद करने को लेकर सिर्फ ट्रस्टी की मंजूरी ली है।


एक सूत्र ने बताया कि ई-वोटिंग के जरिए कंपनी के निवेशक और ऑथराइज्ड ट्रस्टीज इस स्कीम्स को बंद करने पर अपनी मुहर लगाएंगे। इसके बाद AMC निवेशकों को रिफंड शुरू कर सकता है। कंपनी के पास जिनके सिर्फ फोन नंबर है उनसे ईमेल आईडी का ब्योरा मांग रही है।


फ्रैंकलिन टेम्पल्टन ने 29 अप्रैल को बताया था कि अल्ट्रा शॉर्ट टर्म फंड्स में तेजी से रिफंड देगी। इसके तहत पहले तीन महीनों में 9 फीसदी रिफंड मिलेगा। इसके बाद अगले 6 महीनों में 39 फीसदी, एक साल में 50 फीसदी और दो साल में 81 फीसदी का रिटर्न मिलेगा। फ्रैंकलिन इंडिया इनकम ऑपर्च्यूनिटीज फंड के निवेशकों को रिफंड के लिए 5 साल का इंतजार करना पड़ सकता है।



सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।