Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार खबरें

जुटाये गये फंड से बैंक का लोन भरकर कंपनी को कर्जमुक्त करना है लक्ष्यः ITI

कंपनी ने फंड जुटाने के लिए कैबिनेट मंजूरी प्राप्त की है जिससे बैंक लोन का पुनर्भुगतान किया जायेगा।
अपडेटेड Oct 15, 2019 पर 16:01  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

नो योर कंपनी में आज रडार पर सरकारी क्षेत्र की कंपनी ITI है। यह कंपनी दूरसंचार उपकरणों के निर्माण, ट्रेडिंग और सर्विसिंग का कारोबार करती है। इसके अलावा टेलीकॉम से संबंधित अन्य सेवाएं उपलब्ध कराती है। यह कंपनी डिफेंस प्रोजेक्ट भी करती है। सरकार की इस कंपनी में 90 प्रतिशत हिस्सेदारी है।


सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2020 की पहली तिमाही में कंपनी का मुनाफा 5 प्रतिशत बढ़कर 7.56 करोड़ रुपये रहा जबकि पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में कंपनी का मुनाफा 7.2 करोड़ रुपये रहा था।


सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2020 की पहली तिमाही में कंपनी की आय 47.9 प्रतिशत बढ़कर 419.5 करोड़ रुपये रही जबकि पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में कंपनी की 283.6 करोड़ रुपये रही थी।


कंपनी के नतीजों और कारोबार पर सीएनबीसी-आवाज़ से बातचीत करते हुए कंपनी के CMD राकेश मोहन अगरवाल ने कहा कि कंपनी ने इंफ्रास्ट्रक्चर इंप्रूवमेंट, ऑपरेशनल इफिशियंसी, प्रोजेक्ट इंप्लीमेंटेशन के तरीके में बदलाव लाया जिसके कारण कंपनी की आय में इजाफा हुआ है। कंपनी के पास इस समय करीब 6000 करोड़ रुपये के ऑर्डर हैं। कंपनी ने 5जी इक्यूपमेंट के लिए आईईएसए से करार भी किया है।


अगरवाल ने आगे कहा कि कंपनी ने फंड जुटाने के लिए कैबिनेट मंजूरी प्राप्त की है और इस फंड का उपयोग वर्किंग कैपिटल के अलावा कंपनी के ऊपर बकाया बैंक लोन के पुनर्भुगतान में किया जायेगा जिससे कंपनी एक कर्जमुक्त कंपनी हो जायेगी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।