Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

Covid-19 दवा को Glenmark फार्मा ने किया लॉन्च, DCGI से मिली मंजूरी

Favipiravir दवा की कीमत 103 रुपये प्रति टैबलेट है। इसे डायबिटीज और हार्ट की बीमारी से पीड़ित लोगों को भी दिया जा सकता है
अपडेटेड Jun 22, 2020 पर 11:10  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में तबाही मची हुई है। अभी तक यह कहा जा रहा है कि इसके इलाज के लिए कोई दवा नहीं है, लेकिन अब हम ऐसा नहीं कह सकते हैं। ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स (Glenmark Pharmaceuticals) कंपनी ने शनिवार को कहा कि कोरोना वायरस से मामूली रूप से संक्रमित रोगियों के इलाज के लिए एंटीवायरल दवा फेविपिराविर (Favipiravir) को फैबिफ्लू (FabiFlu) लॉन्च किया है। मुंबई स्थित ड्रग फर्म ने शुक्रवार को ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) से दवा बनाने और बेचने की मंजूरी भी हासिल कर ली है। 


हिंदुस्तान टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक, कंपनी ने कहा है कि FabiFlu Covid-19 इलाज के लिए खाने वाली Favipiravir पहली दवा है, जिसे मंजूरी मिल गई है। कंपनी के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर ग्लेन सल्दान्हा (Glenn Saldanha) ने कहा कि यह दवा ऐसे समय में आई है जब भारत में पहले के मुकाबले अधिक तेजी से कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की तादाद बढ़ रही है। इससे हमारा हेल्थ केयर सिस्टम काफी दबाव में है।


सल्दान्हा ने उम्मीद जताई कि FabiFlu जैसे प्रभावी इलाज की उपलब्धता से इस दबाव को काफी हद तक कम करने में मदद मिलेगी। उन्होंने आगे कहा कि क्लीनिकल ट्रायल में FabiFlu ने मामूली कोरोना संक्रमित मरीजों में बेहतर नतीजे दिए हैं। इसके आगे उन्होंने कहा कि इस दवा को खाया जाता है, इसलिए इलाज के लिए बेहतर विकल्प है।


सल्दान्हा ने कहा कि कंपनी और सरकार के साथ मिलकर काम करेगीताकि देश भर में कोरोना संक्रमित मरीजों को यह दवा आसानी से मुहैया कराई जा सके। इस दवा को डॉक्टर की सलाह के आधार पर खाने के लिए दी जाएगी। इसकी कीमत 103 रुपये प्रति टैबलेट है। पहले दिन इसे 1800 mg की दवा दो बार लेनी है। इसके बाद 14 दिन तक 800 mg दवा दिन में दो बार लेना है। यह दवा डायबिटीज (diabetes) और हार्ट की बीमारी ((heart disease) से पीड़ित लोगों को भी दिया जा सकता है। दवा निर्माता ने कहा कि यह दवा 4 दिन में ही कोरोना वायरस के संक्रमित मरीजों में सुधार करना शुरू कर देता है। इसमें तेजी से लक्षणों और रेडियोलॉजिकल में सुधार होना शुरू हो जाता है।


इन्फ्लूएंजा वायरस (influenza virus) के संक्रमण के इलाज के लिए 2014 से जापान में Favipiravir को मंजूरी मिली हुई है।
 
सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।