Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

Air India में स्टेक सेल के लिए सरकार जल्दी ही बोली मंगाएगी

घाटे में चल रही Air India में सरकार अपनी 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचने की तैयारी कर रही है
अपडेटेड Oct 09, 2019 पर 13:57  |  स्रोत : Moneycontrol.com

सरकारी एयर लाइन कंपनी Air India मुश्किल दौर से गुजर रही है। सरकार ने इसमें पिछली बार हिस्सेदारी बेचने की कोशिश की थी। जिसमें सरकार को सफलता नहीं मिली। अब सरकार Air India में अपनी 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचने की तैयारी कर रही है। इसके लिए सरकार जल्द ही बोलियां आमंत्रित करेगी।


इस महीने के आखिरी तक कभी भी Air India के लिए Expression of Interest डॉक्यूमेंट्स सब्मिट किए जाएंगे। सरकार की योजना इसमें 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचने की है। इस मामले से जुड़े फाइनेंस मिनिस्ट्री के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि इस प्रस्ताव को सार्वजनिक किए जाने से पहले मंत्रिमंडल के पैनल से मंजूरी लेना जरूरी है।


सरकार को 31 मार्च तक अपने विनिवेश लक्ष्य 1.05 लाख करोड़ रुपये को हासिल करने के लिए Air India की बिक्री करना जरूरी है। इस साल सरकार को अपना लक्ष्य हासिल करना महत्वपूर्ण है, क्यों कि सरकार का अनुमान है कि कॉरपोरेट में कटौती किए जाने से सरकार को 1.45 लाख करोड़ रुपये का राजस्व नुकसान होगा।


कर्ज में डूबी Air India 30,000 करोड़ रुपये सरकारी बेलआउट पर चल रही है। IndiGo और SpiceJet जैसी प्राइवेट एयरलाइंस Air India के मार्केट में कब्जा जमा रही हैं। 
गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता वाली मिनिस्ट्री पैनल में पहली बैठक 19 सितंबर को हुई थी। जिसमें कई विकल्पों पर विचार विमर्श किया गया था। इस पैनल में फाइनेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण, सिविल एविएशन मिनिस्टर हरदीप पुरी और रेलवे और ट्रेड मिनिस्टर पीयूष गोयल मौजूद रहे। पैनल के जल्द ही औपचारिक रूप से Air India को निजीकरण करने की प्रक्रिया को घोषणा करने की संभावना है।


बता दें कि इसके पहले मार्च में सरकार की Air India के निजीकरण करने की प्रक्रिया असफल हो गई थी। इसका कारण ये बताया गया था कि सरकार इसमें 24 फीसदी हिस्सेदारी बनाए रखना चाहती थी। साथ ही Air India पर 33,000 करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज होने की वजह से इन्वेस्टर्स नहीं आए। बता दें कि Air India को हर महीने 300 करोड़ रुपये कर्माचरियों को सैलरी देने में खर्च करने होते हैं। सरकार इसमें अपनी 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचकर इससे बाहर निकलना चाहती है।  


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।