Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

मुंबई एयरपोर्ट घोटाला: GVK ग्रुप के चेयरमैन GVK रेड्डी और बेटे के खिलाफ CBI ने दर्ज किया केस

मुंबई एयरपोर्ट के अपग्रेडेशन और मेंटेनेंस में इन दोनों बाप-बेटे ने कथित तौर पर 705 करोड़ रुपए की धांधली की है
अपडेटेड Jul 02, 2020 पर 18:05  |  स्रोत : Moneycontrol.com

GVK Group। GVK ग्रुप की कंपनियों के चेयरमैन वेंकट कृष्णा रेड्डी गणपति और उनके बेटे GV संजय रेड्डी के खिलाफ CBI ने केस दर्ज किया है। संजय रेड्डी मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर हैं। अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि एयरपोर्ट चलाने में  इन दोनों बाप-बेटे ने कथित तौर पर 705 करोड़ रुपए की धांधली की है। एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने GVK एयरपोर्ट्स होल्डिंग लिमिटेड के साथ एक ज्वाइंट वेंचर बनाया था। इस पार्टनरशिप में मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट नाम की कंपनी बनी ताकि मुंबई एयरपोर्ट का अपग्रेडेशन और मेंटेनेंस किया जा सके।


4 अप्रैल 2006 को AAI ने MIAL के साथ एक समझौता किया। यह डील मुंबई एयरपोर्ट के अपग्रेडेशन और मेंटेनेंस के लिए की गई थी। GVK ग्रुप के प्रमोटर्स पर यह आरोप लगाया गया है कि MIAL ने अपने कई अफसरों और AAI के गुमनाम अधिकारियों के साथ मिलकर गलत तरीकों से फंड वसूला। CBI ने कहा कि GVK ग्रुप ने फर्जी कंस्ट्रक्शन का काम दिखाकर 2017-18 में फंड वसूला जिससे 310 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ।


CBI ने यह भी आरोप लगाया है कि GVK ग्रुप ने कथित तौर पर MIAL के रिजर्व फंड से 395 करोड़ रुपए का इस्तेमाल अपनी ग्रुप की कंपनियों की फंडिंग में की। ग्रुप ने अपग्रेडेशन और मेंटेनेंस के आंकड़े बढ़ा चढ़ाकर दिखाए। खर्चे दिखाने के लिए ग्रुप ने अपने हेडक्वार्टर में कर्मचारियों और ग्रुप कंपनियों को पेमेंट दिखाए जो कि एयरपोर्ट कंपनी में काम भी नहीं करते थे। इसकी वजह से एयरपोर्ट अथॉरिटी को नुकसान हुआ। इतना ही नहीं ग्रुप ने MIAL फंड के पैसे का इस्तेमाल प्राइवेट पार्टी, निजी और परिवार की जरूरतों के लिए किया।   


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।