Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

Harley Davidson भारतीय बाजार से निकलेगी, बिक्री और मैन्युफैक्चरिंग करेगी बंद

भारत में लॉन्च के बाद Harley-Davidson के लिए शुरुआती कुछ साल उम्मीद से भरे हुए थे
अपडेटेड Sep 25, 2020 पर 09:17  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अनोखी बाइक बनाने वाली अमेरिका की कंपनी Harley-Davidson भारतीय बाजार से पूरी तरह निकलने का फैसला किया है। कंपनी ने गुरुवार को कहा कि वह भारत से अपनी बिक्री और मैन्युफैक्चरिंग कार्यों को बंद कर रहा है। इस घोषणा के साथ ही  Harley ने संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे अधिक लाभदायक मोटरसाइकिलों और मुख्य बाजारों में वापसी करने जा रही है। रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी को भारत से अमेरिका में शिफ्ट में करने पर करीब 75 मिलियन डॉलर का खर्च आएगा। कंपनी रीस्ट्रक्चरिंग (Restructuring) के बारे में US स्टॉक एक्सचेंज को सूचित किया है।


बता दें कि पिछले कुछ समय से कंपनी की कोशिश खुद को समेटने की चल रही थी। अब लगता है कि करीब एक दशक के मुश्किल भरे सफर के बाद हार्ले डेविडसन का भारतीय बाजार से पूरा तरह मोहभंग हो गया है। कंपनी ने भारतीय बाजार से निकलने का फैसला किया है। Harley-Davidson ने इससे पहले वर्ष में कहा था कि उसने अपने उत्पाद पोर्टफोलियो को कम करने और कम वॉल्यूम वाले मार्केट से बाहर निकलने की योजना बना रहा है। हालांकि कंपनी पूरी तरह से भारत में जारी अपने कारोबार को बंद करने का ऐलान नहीं किया था।


भारत में लॉन्च के बाद Harley-Davidson के लिए शुरुआती कुछ साल उम्मीद से भरे हुए थे। उस समय कंपनी भारतीय बाजार को लेकर उत्साहित थी। असल में तब भारत में सुपर बाइक का दौर शुरू नहीं हुआ था। सुपर बाइक के तौर पर तब सड़कों पर सुजुकी की हायाबुसा ही कभी-कभार नजर आती थी।  Harley को भी एक बाइक बनाने वाली मजबूत और संभावनाशील कंपनी के तौर पर देखा गया। ऐसा लगा कि कंपनी का इरादा भारत में लंबी रेस का घोड़ा बनने का है।  Harley ने असेम्बलिंग के लिए हरियाणा के बावल में अपनी यूनिट स्थापित की। यह बड़ी बात थी क्योंकि तब ऐसी बड़ी बाइक का सीधे आयात किया जाता था। यहां तक कि होन्डा और यामाहा जैसी कंपनियां भी भारत की यूनिट में असेम्बलिंग नहीं करती थीं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।