Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण पर PMO में आज होगी अहम बैठक

दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण पर आज शाम एक बार फिर प्रधानमंत्री के Principal Secretary बैठक करेंगे।
अपडेटेड Nov 05, 2019 पर 08:36  |  स्रोत : Moneycontrol.com

दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण पर आज शाम एक बार फिर प्रधानमंत्री के Principal Secretary बैठक करेंगे। प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव के साथ बैठक से पहले कैबिनेट सचिव ने लिया हालात का जायजा लिया। आज होने वाली बैठक में प्रधान सचिव पीके मिश्रा के अलावा इस मामले से संबंधित तमाम अधिकारी मौजूद रहेंगे। बैठक में प्रदूषण रोकने के लिए अब तक उठाए गए कदम पर चर्चा होगी और ये सुनिश्चित किया जाएगा कि जुर्माना समेत जो भी उपाय किए जा सकते हैं, उन्हें जमीन पर उतारा जाए।


बता दें कि आज सुबह 7.30 बजे दिल्ली का AQI यानि एयर क्वालिटी इंडेक्स 439 था। ये प्रदूषण की गंभीर स्थिति बताता है। AQI 200 के पार होते ही हवा की क्वालिटी खराब मानी जाती है। 500 से ऊपर के AQI को बेहद गंभीर कैटेगरी में रखा जाता है। आज सुबह दिल्ली वालों ने घनी धुंध में आंखें खोलीं। प्रदूषण के आंकड़ों को समझने के लिए उसे सिगरेट के धुएं में बदलकर बताने वाले ऐप्स के मुताबिक अभी दिल्ली में लोग रोज दो दर्जन से ज्यादा सिगरेट के बराबर हानिकारिक धुआं पी रहे हैं और ये सिर्फ दिल्ली की बात नहीं नोएडा, गाजियाबाद, फरीदाबाद, गुरुग्राम समेत पूरे NCR का यही हाल है।


वहीं दिल्ली के प्रदूषण में राजनीति भी उफान पर है। आज BJP नेता और केंद्रीय मंत्री विजय गोयल ने जान-बूझकर ऑड ईवन का उल्लंघन किया। गोयल का कहना है कि केजरीवाल सरकार ने प्रदूषण के खिलाफ 5 साल में कोई काम नहीं किया। केजरीवाल प्रदूषण का दोष पराली पर देते हैं। ऐसे में ऑड ईवन लागू करने के पीछे कोई तर्क नहीं है। इसके अलावा विजय गोयल ने ये भी कहा कि केजरीवाल सरकार प्रदूषण के बहाने राजनीति करती है।


इधर केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने प्रदूषण के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जिम्मेदार ठहराया है। जावड़ेकर ने कहा है कि केजरीवाल विज्ञापन पर 1500 करोड़ खर्च करते हैं लेकिन पराली जलने से रोकने के लिए किसानों को पैसा नहीं दे सकते। इस पर अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि प्रकाश जावड़ेकर राजनीति कर रहे हैं। विज्ञापन पर जो खर्च किया गया है, वो बहुत कम है और इससे डेंगू पर नियंत्रण करने में बड़ी मदद मिली है।


आज सुप्रीम कोर्ट ने भी प्रदूषण पर सख्त रवैया दिखाया है। कोर्ट ने किसानों को भी पराली जलाने के लिए फटकार लगाई है। कोर्ट ने ऑड ईवन पर भी सवाल उठाया है। 
असीम आज कोर्ट में क्या क्या हुआ?


सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी की है कि किसान जीविका के लिए दूसरों को नहीं मार सकते। पराली  जलाने पर रोक लगनी चाहिए और क्रॉप बर्निंग पर राज्य सरकारों की जिम्मेदारी तय होनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब सरकार को फटकार लगाते हुए कहा है कि केंद्र और दिल्ली सरकार क्या कर रहे हैं? दिल्ली सरकार बताए ODD EVEN से क्या मदद मिलेगी? लोग रो रहे हैं और क्या हम इसे रोक नहीं सकते? दिल्ली अब रहने लायक नहीं बची है।


सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों के मुख्य सचिवों को बुधवार को तलब किया है और उनसे पूछा है कि आज तक पराली जलाने की घटनाएं कम क्यों नहीं हुई। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर पराली जाने की घटनाएं होती हैं तो ग्राम प्रधान से लेकर मुख्य सचिव तक को इसमें पार्टी बनाया जाएगा। ये सभी सुप्रीम कोर्ट की अवमानना के दोषी होंगे। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने कंस्ट्रक्शन पर भी रोक लगाई है। सुप्रीम कोर्ट ने ऑड इवन की सफलता पर सरकार से शुक्रवार तक रिपोर्ट मांगी है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।