Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

India-China Border Faceoff: 4G अपग्रेडेशन में चीनी उपकरणों के उपयोग पर प्रतिबंध लगाने के निर्देश

पूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी में भारत और चीनी सैनिक के बीच हुई झड़प के बाद देश में चीन के खिलाफ गुस्सा काफी बढ़ गया है
अपडेटेड Jun 18, 2020 पर 18:31  |  स्रोत : Moneycontrol.com

DoT यानी दूरसंचार विभाग ने सरकारी टेलीकॉम कंपनी भारत संचार निगम लि. (BSNL)को अपने 4G अपग्रेडेशन प्रोग्राम में चीनी उपकरणों के उपयोग पर प्रतिबंध लगाने का निर्देश दिया है। इसके अलावा इस बारे में जारी पूरे टेंडर को नए सिरे से जारी किये जाने के लिए भी कहा गया है। बता दें कि 4G अपग्रेडेशन प्रोग्राम BSNLके रिवाइवल प्लान का हिस्सा है। दूरसंचार विभाग प्राइवेट टेलीकॉम सर्विस प्रदाता कंपनियों को भी  चीन बने उपकणों पर अपनी निर्भरता कम करने के लिए कहने पर गंभीरता से विचार कर रहा है।


सरकारी सूत्रों ने  इस बाबत CNN-News18 से बात करते हुए कहा कि चाइनीज कंपनियों के बनाए गए उपकरणों के साथ हमेशा network security का सवाल जुड़ा रहा है। चाइनीज टेक कंपनी Huawei के security features पर कई देशों में सवाल उठाए गए हैं और ये जांच के दायरे में भी है।


बता दें कि पिछले साल चीन से 12000 करोड़ रुपये के उपकरण खरीदे गए हैं। हालांकि चीनी उपकरण पर रोक से लागत 15 से 20 फीसदी बढ़ेगी।


पूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी में भारत और चीनी सैनिक के बीच हुई झड़प के बाद देश में चीन के खिलाफ गुस्सा काफी बढ़ गया है। पूरे देश में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के पुतले जलाए जा रहे हैं । सोशल मीडिया पर भी चीनी सामानों का बहिष्कार करने की मांग की जा रही है। बता दें कि गलवान घाटी में हुए खूनी संघर्ष में भारत के 20 जवान शहीद हुए हैं।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्वी लद्दाख में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में शहीद हुए सैन्यकर्मियों को श्रद्धांजलि देते हुए बुधवार को कहा कि सैन्य बलों ने सदैव अदम्य साहस का परिचय दिया है और दृढ़तापूर्वक भारत की संप्रभुता की रक्षा की है। पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ झड़प में भारतीय सेना के एक कर्नल सहित 20 सैन्यकर्मी शहीद हो गए। प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, पूर्वी लद्दाख में अपने राष्ट्र की रक्षा करते हुए प्राण न्यौछावर करने वाले शहीदों को श्रद्धांजलि देता हूं। उनके सर्वोच्च बलिदान को कभी नहीं भुलाया जा सकेगा।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।