Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

मोबाइल निर्यात में भारत की बड़ी छलांग, 21वें स्थान से 17वें पायदान पर पहुंचा

पिछले पांच साल में भारत से मोबाइल फोन का निर्यात 17 फीसदी सालाना की दर से बढ़ा है, जो कि देश से 23वां सबसे बड़ा एक्सपोर्ट आइटम बन गया है
अपडेटेड Aug 20, 2019 पर 09:59  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारत के शहरी और ग्रामीण इलाकों तक अपनी गहरी पैठ बना चुके मोबाइल ने एक और कीर्तिमान स्थापित कर दिया है। पहले जहां देश में विदेश से बनकर मोबाइल आते थे, अब यह देश मोबाइल निर्यातक की सूची में भी पहुंच चुका है। निर्यातक की सूची में जगह ही नहीं बनाई, बल्कि बेहतर स्थिति में है।


दरअसल भारत में मोबाइल फोन के एक्सपोर्ट में साल 2018 में उछाल देखा गया था। निर्यातकों की सूची में भारत ने 21वें स्थान से छलांग लगाकर 17वें स्थान पर कब्जा जमाया है। Federation of Indian Export Organizations ने एक बयान में कहा है कि भारतीय कंपनियों ने 2018 में 1.07 बिलियन डॉलर के मोबाइल फोन की बिक्री की है।
पिछले पांच साल में भारत से मोबाइल फोन का निर्यात 17 फीसदी सालाना की दर से बढ़ा है, जो कि देश से 23वां सबसे बड़ा एक्सपोर्ट आइटम बन गया है।


जुलाई 2018 में देश के पीएम नरेंद्र मोदी ने नोएडा में एक सैमसंग फैसिलिटी का उद्घाटन किया था, जो दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फोन बनाने वाली यूनिट है। ये कंपनी विदेशी बाजार में मोबाइल हैंडसेट का निर्यात करती है। भारतीय निर्माताओं के लिए हॉन्गकॉन्ग, यूएई और रूस टॉप 3 एक्सपोर्ट डेस्टीनेशन हैं। 


चीन, वियतनाम और हॉन्गकॉन्ग साल 2018 में मोबाइल फोन एक्सपोर्ट के लिए टॉप 3 में रहे। इसमें चीन अकेले दुनिया में मोबाइल फोन के एक्सपोर्ट का 49 फीसदी करता है। जबकि वियतनाम और हॉन्गकॉन्ग का एक्सोपर्ट पूरी दुनिया में क्रमश: 13 फीसदी और 10.9 फीसदी है। हालांकि भारत का दुनिया के कुल मोबाइल फोन निर्यात में मात्र 0.4 फीसदी हिस्सा है। लेकिन भारत का बाजार भविष्य के लिए बेहतर है।


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जानकारों का मानना है कि भारत में मोबाइल फोन का निर्यात अभी और बढ़ने की उम्मीद है। मोबाइल फोन के क्षेत्र में स्थितियों में तेजी से सुधार हो रहा है। 
 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।