Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

इंडिगो की सालाना बैठक से गंगवाल गायब, शेयरहोल्डर्स ने जमकर किया हंगामा

नियमों में बदलाव पर शेयरहोल्डर्स की मंजूरी लेने के लिए राकेश गंगवाल ने ही यह बैठक बुलाई थी लेकिन खुद गायब रहे
अपडेटेड Jan 30, 2020 पर 07:52  |  स्रोत : Moneycontrol.com

IndiGo। इंटरग्लोब एविएशन लिमिटेड (InterGlobe Aviation) की सालाना आम बैठक में जमकर ड्रामा हुआ। यह कंपनी देश की सबसे बड़ी एयरलाइन कंपनी इंडिगो (IndiGo) का ऑपरेशन देखती है। इस बैठक में कंपनी के एक प्रमोटर राकेश गंगवाल शामिल नहीं हुए थे। उनकी गैरमौजूदगी की वजह से शेयरहोल्डर्स में काफी नाराजगी थी क्योंकि यह बैठक राकेश गंगवाल ने ही बुलाई थी।


लाइव मिंट के मुताबिक, इस बैठक में मौजूद एक शेयरहोल्डर ने बताया, "रेज्योलूशन से यह साफ नहीं हो पाया है कि गंगवाल अपनी हिस्सेदारी बेचना चाहते हैं या नहीं। गंगवाल ने ही यह बैठक बुलाई थी और खुद ही शामिल नहीं हुए।"


राकेश गंगवाल ने शेयरहोल्डर्स की यह बैठक आर्टिकल्स ऑफ एसोसिएशन (Articles of Association) में संशोधन के लिए उनकी मंजूरी लेने के लिए बुलाई थी। गंगवाल चाहते हैं कि उनकी कंपनियों या दूसरे को-प्रमोटर राहुल भाटिया के IGE ग्रुप की कंपनियों के स्टेक सेल के दौरान दूसरे प्रमोटर के पास जो राइट ऑफ फर्स्ट रिफ्यूजल (Right of First Refusal) का अधिकार है वह खत्म कर दी जाए।


राकेश गंगवाल नियमों में जो बदलाव चाहते हैं उससे यह अनुमान लगाया जा रहा है कि वह अपने ग्रुप की पूरी हिस्सेदारी बेचना चाहते हैं। गंगवाल के इस बैठक में ना आने से शेयरहोल्डर्स में नाराजगी थी। बैठक के दौरान शेयरहोल्डर्स ने स्टेज के पास हंगामा मचाना शुरू कर दिया। इसकी वजह से कंपनी के चेयरमैन एम दामोदरन को सिक्योरिटी गार्ड्स बुलाने पड़े। तब जाकर हालात पर काबू पाया जा सका।  


लाइव मिंट के मुताबिक, नाम जाहिर ना करने की शर्त पर एक माइनॉरिटी शेयरहोल्डर ने बताया, "दोनों प्रमोटर्स के बीच चल रहे मनमुटाव की वजह से इंडिगो के शेयर गिर रहे हैं और हमारा रिटर्न घट रहा है। भाटिया ने लोगों को शांत करने के लिए एक शब्द नहीं कहा।"


लंबे समय से चल रही है तनातनी


राकेश गंगवाल और राहुल भाटिया के बीच पिछले एकसाल से मनमुटाव चल रहा है। इन दोनों प्रमोटर के बीच इंडिगो के चेयरमैन और मैनेजमेंट के दूसरे अहम पदों पर नियुक्ति से जुड़े शेयरहोल्डर राइट्स को लेकर विवाद है। गंगवाल का आरोप है कि राहुल भाटिया इन अधिकारों को गलत इस्तेमाल कर रहे हैं। कंपनी के बोर्ड में महिला डायरेक्टर नहीं है। इसे लेकर भी दोनों में मतभेद है। गंगवाल ने यह भी आरोप लगाया है कि इंडिगो और भाटिया के IGE ग्रुप के बीच रिलेटेड पार्टी ट्रांजैक्शन में अनियमितताएं हैं। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।