Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

इंदिरा नूई का पेप्सिको से इस्तीफा

प्रकाशित Tue, 07, 2018 पर 08:32  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कल पेप्सिको से बड़ी खबर आई। सबको चौंकाते हुए कंपनी की सीईओ इंदिरा नूई ने इस्तीफा दे दिया। 3 अक्टूबर को उनकी जगह रैमन लगुआर्टा लेंगे। भारतीय मूल की इंदिरा नूई 12 साल से पेप्सिको की सीईओ थीं। 2006 में इंदिरा नूई के कमान संभालने के बाद से पेप्सिको के शेयर में 78 फीसदी का इजाफा हुआ। अपने इस्तीफे पर इंदिरा ने ट्वीट कर लिखा है कि उनके लिए ये एक भावुक दिन है। @PepsiCo पिछले 24 साल से मेरी जिंदगी रही है, मेरे मन का एक हिस्सा यहीं रहेगा। अब तक जो कुछ भी हासिल किया उस पर मुझे गर्व है। मुझे विश्वास है कि पेप्सीको का भविष्य और बेहतर है। उन्होंने पेप्सिको की कमान संभालने वाले रैमन लगुआर्टा की भी तारीफ की है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि रैमन लगुआर्टा @PepsiCo को सफलता से आगे बढ़ाने के लिए सही व्यक्ति हैं। वो मेरे बेहद अहम दोस्त और पार्टनर रहे हैं। पेप्सिको को नई ऊंचाइयों पर ले जाने का भरोसा है।


इंदिरा नूई ने अपनी कामयाबी से पूरी दुनिया की महिलाओं के लिए प्रेरणा बनीं। इंदिरा नूई व्यापार जगत में शीर्ष पर पहुंचने वाली चुनिंदा महिलाओं में शामिल हैं। आइए आपको बताते हैं इंदिरा नूई का सफरनामा। इंदिरा नूई का भारत के चेन्नई में जन्म और पढ़ाई लिखाई हुई। इन्होंने मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज से बी.एस की डिग्री ली। ये कॉलेज में गर्ल्स गिटार ग्रुप में लीड गिटारिस्ट थीं। इंदिरा कॉलेज की महिला क्रिकेट टीम की सदस्य भी रहीं। आगे इन्होंने आईआईएम कोलकाता से एमबीए की डिग्री हासिल की। इन्होंने एबीबी और जॉनसन एंड जॉनसन में भी नौकरी की। नौकरी के बाद येल मैनेजमेंट स्कूल से पढ़ाई की। अमेरिका में इंदिरा ने बॉस्टन कंसल्टिंग ग्रुप और मोटोरोला में नौकरी की।


1994 में इंदिरा नूई की पेप्सिको में एंट्री हुई। 2001 में पेप्सिको में बोर्ड ऑफ डायरेक्टर, प्रेसिडेंट एंड सीएफओ के पद पर नियुक्त हुईं। 2006 में नूई पेप्सिको की सीईओ बनी। 2007 में भारत सरकार ने इंदिरा को पद्म भूषण से नवाजाष 2006 में फॉर्च्यून की विश्व की ताकतवर महिलाओं की लिस्ट में इनका नाम आया। इंदिरा की शादी को 37 साल हो गए हैं। इंदिरा नूई की दो बेटियां हैं। इंदिरा अपनी कामयाबी से दुनिया भर की महिलाओं के लिए प्रेरणा बनीं हैं।