Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

Whistleblower मामले में SEC से Infosys को मिली क्लीन चिट

बीते साल अक्तूबर महीने में कुछ गुमनाम व्हिसलब्लोअर्स ने मैनेजमेंट पर कई गंभीर आरोप लगाए थे
अपडेटेड Mar 25, 2020 पर 08:35  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अमेरिकी सिक्योरिटीज और एंड एक्सचेंज कमीशन (Securities and Exchanges Commission-SEC) ने व्हिसलब्लोअर (whistleblower) मामले में इन्फोसिस (Infosys) को क्लीन चिट दे दी है।
इन्फोसिस ने जारी किए गए बयान में कहा है कि कंपनी को SEC से एक नोटिफिकेशन मिला है। जिसमें लिखा गया है कि इस मामले की पूरी जांच खत्म हो चुकी है। कंपनी को इस मामले में किसी भी तरह की कोई कार्रवाई का अनुमान नहीं है।
कंपनी ने आगे अपने बयान में कहा है कि इन्फोसिस को इंडियन रेगुलेटरीज अथॉरिटी (Indian regulatory authorities) से मिले सभी सवालों का जवाब दिया गया है। इसके साथ ही कंपनी हमेशा अथॉरिटीज को सहयोग करती रहेगी।


बता दें कि पिछले साल अक्टूबर महीने में कुछ गुमनाम व्हिसलब्लोअर ने मैनेजमेंट पर कई गंभीर आरोप लगाए थे। उस शिकायत के 5 महीने बाद यह बात सामने आई है। आरोप के मुताबिक मैनेजमेंट आमदनी और मुनाफे को बढ़ा-चढ़ाकर पेश करने के लिए बैलेंशसीट में हेर-फेर कर रही है। इस मामले में कंपनी के सीईओ सलिल पारेख और सीएफओ निलांजन रॉय का नाम उछला था। इस रिपोर्ट के बाद इन्फोसिस के शेयर BSE और US stock exchange NYSE में 16 फीसदी नीचे गिर गए। जिससे कंपनी का मार्केट कैप तकरीबन 50,000 करोड़ रुपये पहुंच गया।  
  
देश की दूसरी सबसे आईटी कंपनी इन्फोसिस ने जनवरी महीने में व्हिसलब्लोअर की शिकायत पर अपनी ऑडिट कमेटी की रिपोर्ट को विस्तार पूर्वक जारी किया था। जिसमें इन्फोसिस को क्लीन चिट दी गई थी। स्वतंत्र कानूनी सलाहकार शार्दुल अमरचंद मंगलदास एंड कंपनी (Shardul Amarchand Mangaldas & Co) और प्राइसवाटरहाउसकूपर्स (PricewaterhouseCoopers) की सहायता से जांच की गई थी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।