Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

Infosys ने कहा पहली जांच में व्हिसलब्लोअर्स की शिकायत के खिलाफ नहीं मिला सबूत, कंपनी के शेयर 5% चढ़े

2 नवंबर को कंपनी की ओर से NSE को भेजे गए एक लेटर में कंपनी ने कहा कि अभी उसे शिकायतों के खिलाफ कोई ठोस सबूत नहीं मिला है
अपडेटेड Nov 06, 2019 पर 09:07  |  स्रोत : Moneycontrol.com

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी सर्विसेज की दिग्गज कंपनी INFOSYS ने व्हिसलब्लोअर्स के अपने CEO और CFO के खिलाफ फर्जीवाड़े के आरोप की प्राथमिक जांच के बाद कहा है कि उसे इन शिकायतों के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला है। कंपनी की ओर से यह बयान आने के बाद सोमवार को कंपनी के शेयरों में पांच फीसदी की तेजी देखी गई।


रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, 2 नवंबर को कंपनी की ओर से National Stock Exchange को भेजे गए एक लेटर में कंपनी ने कहा कि इस अज्ञात कर्मचारियों की ओर से आई शिकायतों पर अभी भी जांच चल रही है लेकिन अभी तक कंपनी इन शिकायतों की विश्वसनीयता और आधार पर टिप्पणी करने की हालत में नहीं है। कंपनी को इन शिकायतों के खिलाफ कोई ठोस सबूत नहीं मिले हैं।


कंपनी ने बताया कि पिछले महीने U.S. Securities and Exchange Commission (SEC) ने इन व्हिसलब्लोअर्स की शिकायतों पर जांच शुरू की थी।


बता दें कि कंपनी में काम करने वाले कुछ गुमनाम कर्मचारियों ने 17 सितंबर को बोर्ड को एक खत लिखा था, जिसमें कंपनी के CEO सलिल पारेख और CFO निलंजन रॉय के खिलाफ पिछली दो तिमाहियों (अप्रैल-सितंबर) में मैनेजमेंट और अकाउंटिंग में कई तरह की गड़बड़ियां करने का आरोप लगाया था।


दोनों पर आरोप था कि उन्होंने शॉर्ट टर्म प्रॉफिट बढ़ा हुआ दिखाने और खर्चों को कम दिखाने के लिए अनियमतिताएं की थीं। बोर्ड से कोई जवाब न आने पर व्हिसलब्लोअर्स ने 3 अक्टूबर को US के Whistleblower Protection Program के पास खत भेजा।


कंपनी की मैनेजमेंट ने कहा मामले की जांच कंपनी की ऑडिटिंग टीम कर रही है। हालांकि, 23 अक्टूबर को यह भी खबर आई थी कि यह मामला The Securities and Exchange Board of India (SEBI) के पास भी जा सकता है।


गौरतलब है कि INFOSYS पर बिग बुल राकेश झुनझुनवाला ने पहले ही नेटवर्क-18 से एक्सक्लूसिव बातचीत में कहा था कि WHISTLEBLOWER की ऐसी शिकायतों पर मीडिया ट्रायल नहीं होना चाहिए। WHISTLEBLOWER की शिकायतें संदिग्ध नजर आती हैं। SEBI को इस मामले में  सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। SEBI को Infosys में सौदों जांच करनी चाहिए।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।