Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

KKR, जियो प्लेटफॉर्म में करेगी 11,367 करोड़ रुपये का निवेश

यह KKR का एशिया में सबसे बड़ा निवेश होगा। इसके जरिए जियो प्लेटफॉर्म में KKR 2.32 इक्विटी हिस्सेदारी लेगी
अपडेटेड May 23, 2020 पर 13:48  |  स्रोत : Moneycontrol.com

रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) ने 22 मई को सूचित किया है कि केकेआर  (KKR) जियो प्लेटफॉर्म में 2.32 फीसदी हिस्सेदारी के अधिग्रहण के लिए 11,367 करोड़ रुपये का निवेश करेगी।


यह  रिलायंस प्लेटफॉर्म में पिछले 1 महीने में हुआ 5वां बड़ा निवेश करार है। इस निवेश के लिए जियो प्लेटफॉर्म का इक्विटी वैल्यूएशन 4.91 लाख करोड़ रुपये और एंटरप्राइस वैल्यूएशन 5.16 लाख करोड़ रुपये किया गया है।


यह केकेआर का एशिया में किया जानेवाला सबसे बड़ा निवेश होगा। इस निवेश के जरिए केकेआर जियो प्लेटफॉर्म में 2.32 इक्विटी हिस्सेदारी हासिल करेगी।


पिछले 1 महीने के दौरान फेसबुक , सिल्वर लेक, विस्टा, जनरल एटलांटिक और केकेआर जैसे अहम टेक्नोलॉजी निवेशकों ने जियो प्लेटफॉर्म में कुल 78,562 करोड़ रुपये के निवेश का ऐलान किया है। यह सारे सौदे 31 मार्च 2021 तक कंपनी को कर्ज मुक्त बनाने की योजना का हिस्सा हैं।


रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर मुकेश अंबानी ने कहा कि मैं जियो प्लेटफॉर्म में केकेआर के निवेश से काफी खुश महसूस कर रहा हूं। केकेआर दुनिया की प्रसिद्ध वित्तीय निवेशकों में से है। सभी भारतीयों के लिए देश में इको डिजिटल सिस्टम में बदलाव और विकास के लिए केकेआर की भागीदारी बहुत अहम साबित होगी। केकेआर भारत में एक प्रीमियर डिजिटल सोसायटी के विकास के हमारे लक्ष्य में अहम भागीदारी निभाने जा रहा है।


केकेआर यह निवेश अपने एशिया प्राइवेट इक्विटी और ग्रोथ टेक्नोलॉजी फंड के जरिए करेगी। यह करार जरुरी और वैधानिक मंजूरियों के अधीन है।


इस मौके पर केकेआर के को-फाउंडर और को-सीईओ  हेनरी क्रैविस (Henry Kravis) ने कहा कि कुछ ही कंपनियां ऐसी होती हैं जिनमें देश के डिजिटल इकोसिस्टम को बदल देने की क्षमता होती है। जियो प्लेटफॉर्म एक ऐसा ही प्लेटफॉर्म है जो भारत और संभवता पूरी दुनिया में पूरे डिजिटल इकोसिस्टम को बदलने का काम कर रहा है। जियो प्लेटफॉर्म सही मायने में भारत की अपनी भूमि पर जन्मा अगली पीड़ी का टेक्नोलॉजी लीडर है। जियो की इन्हीं क्षमताओं को ध्यान में रखते हुए हम जियोप्लेटफॉर्म में निवेश कर रहे हैं।


इस करार के लिए मॉर्गन स्टैनली रिलायंस इंडस्ट्रीज के फाइनेशिंयल एडवाइजर के तौर पर काम कर रहा है और  AZB AZB & Partners और Davis Polk & Wardwell लीगल काउंसल की तौर पर काम कर रहे हैं।


इसी तरह Deloitte Touche Tohmatsu India केकेआर के फाइनेशिंयल एडवाइजर और Shardul Amarchand Mangaldas & Co और Simpson Thacher & Bartlett LLP केकेआर के लीगल काउंसल के रुप में काम कर रहे हैं।


डिस्क्लेमर: मनीकंट्रोल रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंपनी नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का हिस्सा है। नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का स्वामित्व रिलायंस इंडस्ट्रीज के पास ही है।)


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।