Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

नकदी की कोई किल्लत नहीं: लोढ़ा ग्रुप

प्रकाशित Wed, 28, 2018 पर 12:39  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

लोढ़ा ग्रुप इन दिनों चर्चा में है। दरअसल ग्रुप पर कर्ज का भारी बोझ है। वहीं बॉन्ड बाजार में कंपनी के बॉन्ड्स की यील्ड बढ़ गई है और बॉन्ड की कीमतों में तेज गिरावट आई है। बॉन्ड की कीमत अगस्त के 104.3 डॉलर के मुकाबले अब 88.14 डॉलर पर आ गई हैं, ऐसे में लोढ़ा को कर्ज देने वालों की चिंता बढ़ गई है। हालांकि इस तरह की खबरें आ रही हैं कि लोढ़ा ग्रुप लंदन की प्रॉपर्टी बेच रही है। लंदन की प्रॉपर्टी बेचने से 4,200 करोड़ रुपये की रकम हासिल होने की संभावना है।


कंपनी की वित्तीय सेहत पर चर्चा करते हुए सीएनबीसी-आवाज़ से लोढा ग्रुप के एमडी और सीईओ, अभिषेक लोढ़ा ने कहा कि कंपनी की लिक्विडिटी बेहतर स्थिति में है और किसी भी भुगतान में कभी देरी नहीं की है। वहीं बड़े लेनदारों को 2019 तक का प्री-पेमेंट किया हुआ है। अगले 12 महीने में सिर्फ 1000-1100 करोड़ रुपये का री-पेमेंट बाकी है। साथ ही कंपनी के पास कैश की कोई किल्लत नहीं है।


अभिषेक लोढ़ा के मुताबिक लंदन प्रॉपर्टी बेचकर 4,200 करोड़ रुपये जुटाएंगे। उन्होंने ये भी बताया कि बाजार की स्थिति के कारण आईपीओ में देरी हो रही है। आम चुनाव के पहले या तुरंत बाद आईपीओ पर विचार किया जा सकता है। अभिषेक लोढ़ा का कहना है कि इस साल बिक्री से 9,500 करोड़ रुपये की आय की उम्मीद है। लीज कारोबार में जबरदस्त ग्रोथ दिखी है और प्रीमियम हाउसिंग प्रोजेक्ट का काम लगभग पूरा हो चुका है। रेंटल कारोबार के विस्तार पर फोकस है और बिक्री के लिए काफी रेंटल एसेट्स मौजूद हैं। मार्च 2019 तक कंपनी के पास 13,000 करोड़ रुपये की इन्वेंटरी मौजूद रहेगी।