Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार खबरें

लो-सल्फर रेगुलेशन शिपिंग सेक्टर के लिए है गेमचेंजर, जिससे कंपनी को होगा फायदाः SCI

जनवरी 2020 से लागू होने वाले लो-सल्फर रेगुलेशन से शिपिंग सेक्टर के लिए गेम चेंजर साबित हो सकता है
अपडेटेड Nov 08, 2019 पर 16:40  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

नो योर कंपनी में आज रडा पर SCI है। इसके शेयर का वर्तमान भाव 56 रुपये है जबकि 52 हफ्तों का उच्च स्तर 64 रुपये और निचला स्तर 25 रुपये रहा है। कंपनी का मार्केट कैप 2600 करोड़ रुपये है। इसमें प्रमोटर्स यानी भारत सकारक की 63.75 प्रतिशत हिस्सेदारी है। कंपनी ने वित्त वर्ष 2020 की दूसरी तिमाही के नतीजे घोषित किये हैं।


सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2020 की दूसरी तिमाही में SCI का घाटा 67 प्रतिशत घटकर 41 करोड़ रुपये रहा जबकि वित्त वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में कंपनी को 124.5 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था।


सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2020 की दूसरी तिमाही में SCI की आय 6 प्रतिशत बढ़कर 998 करोड़ रुपये रही जबकि वित्त वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में कंपनी की आय 940 करोड़ रुपये रही थी।


सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2020 की दूसरी तिमाही में SCI का एबिटडा 92 प्रतिशत बढ़कर 260 करोड़ रुपये रहा जबकि वित्त वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में कंपनी का एबिटडा 135 करोड़ रुपये रहा था। कंपनी की मार्जिन 14.36 प्रतिशत से बढ़कर 26.05 प्रतिशत रही है।


सीएनबीसी-आवाज़ के साथ बातचीत करते हुए SCI की CMD हरजीत कौर जोशी ने कहा कि तीसरी तिमाही में नतीजे और अच्छे रहेंगे। टैंकर सेगमेंट में अक्टूबर महीने जो उछाल देखने को मिला है वह एक दूसरी कंपनी पर एम्बार्गो लग जाने की वजह से आया था। इसके बाद कंपनी का प्रदर्शन स्टेबल रहने की उम्मीद है। कंपनी का आउटलुक काफी अच्छा है।


जोशी ने आगे कहा कि जनवरी 2020 से लागू होने वाले लो-सल्फर रेगुलेशन से शिपिंग सेक्टर के लिए गेम चेंजर साबित हो सकता है जिसका फायदा SCI को भी मिलेगा। दूसरी तरफ एक बलास्ट वाटर मैनेजमेंट कन्वेंशन भी शिपिंग कंपनियों के लिए लागू होने जा रहा है। यदि कुछ कंपनियां इसका पालन नहीं कर पाती हैं तो इस स्थिति का फायदा भी SCI को मिल सकता है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।