Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

बंधन बैंक और गृह फाइनेंस का विलय

प्रकाशित Tue, 08, 2019 पर 09:16  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

गृह फाइनेंस के बोर्ड ने बंधन बैंक के साथ मर्जर को मंजूरी दे दी है। गृह फाइनेंस के एक हजार शेयर पर बंधन के 568 शेयर मिलेंगे। आपको बता दें कि डील बंधन बैंक के कल के भाव से 8 फीसदी डिस्काउंट पर हो रही है। डील के बाद बंधन बैंक के प्रोमोटरों की हिस्सेदारी घटेगी। मर्जर के बाद बंधन में एचडीएफससी की हिस्सेदारी करीब 15 फीसदी रहेगी जबकि गृह फाइनेंस में 57.83 फीसदी हिस्सेदारी रहेगी। विलय के बाद ओपन ऑफर भी नहीं आएगा। साथ ही अनूप कुमार को बैंक का पार्ट टाइम चेयरमैन बनाया गया है।


गृह फाइनेंस और बंधन बैंक के मर्जर पर ब्रेकोरेज हाउस क्या राय रखते हैं इस पर एक नजर डाल लेते हैं। सीएलएसए का मानना है कि एसएलआर और कैश रिजर्व रेश्यो बढ़ने से रिटर्न ऑन इक्विटी पर असर पड़ सकता है। हालांकि इससे एचडीएफसी की कैपिटल एडिक्वेसी बढ़ेगी। वहीं मर्जर से फ्री फ्लोट बढ़ने से इंडेक्स में इसका वैटेज बढ़ेगा। हालांकि बंधन बैंक में प्रोमोटर हिस्सा 82 फीसदी से घटकर 61 फीसदी होगा लेकिन बंधन बैंक में प्रोमोटर्स का हिस्सा अभी ज्यादा होना चिंता की बात है। वहीं  मैक्वायरी और जेपी मॉर्गन ने बंधन बैंक पर न्यूट्रल रेटिंग दी है। मैक्वायरी का शेयर पर लक्ष्य जहां 540 रुपये है, वहीं जेपी मॉर्गन ने 525 रुपये का लक्ष्य रखा है।


इस मर्जर को एचडीएफसी के चेयरमैन दीपक पारेख ने काफी अहम बताया। उन्होंने ये भी कहा कि हाउसिंग के लिए इससे बढ़िया समय कभी नहीं रहा है। उन्होंने आगे कहा कि बंधन-गृह के बीच बेहतर तालमेल है।


मर्जर को लेकर एचडीएफसी के सीईओ केकी मिस्त्री ने कहा कि बंधन बैंक के साथ मर्जर का फैसला सही है। ये रुरल और सेमी अर्बन के लिए बड़ा प्लेटफॉर्म बनेगा।