Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

केरल में 6 जून को आएगा मॉनसून: IMD

प्रकाशित Wed, 15, 2019 पर 12:40  |  स्रोत : Moneycontrol.com

मॉनसून पर स्काईमेट के पूर्वानुमान के बाद भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने भी अपना नया अनुमान जताया है। IMD ने बुधवार 15 मई को बताया कि मॉनसून में 5 दिनों की देरी हो सकती है। केरल के तट पर मॉनसून 6 जून को पहुंचेगा। इससे पहले स्काईमेट का दावा है कि मॉनसून केरल के तट पर 4 जून को पहुंचेगा।


IMD ने कहा, इस साल मॉनसून केरल थोड़ा लेट पहुंच सकता है। दक्षिणी पश्चिमी मॉनसून केरल 6 जून को पहुंच सकता है। हालांकि इसमें मॉडल एरर के तौर पर 4 दिन कम या ज्यादा हो सकता है।


सामान्य तौर पर मॉनसून 1 जून को केरल पहुंचता है। इसी के साथ भारत में 4 महीने मॉनसून रहता है। IMD ने बताया, दक्षिणी पश्चिमी मॉनसून के बढ़ने के लिए हालात अनुकूल हो रहे हैं। अंडमान निकोबार और इससे जुड़ी बंगाल की खाड़ी तक मॉनसून 18 से 19 मई के आसपास पहुंचेगा। इससे पहले प्राइवेट वेदर एजेंसी स्काईमेट ने पूर्वानुमान जताया था कि मॉनसून 4 जून को केरल पहुंच सकता है।


क्या है स्काईमेट का अनुमान?


स्काईमेट वेदर सर्विसेज का कहना है कि इस साल मॉनसून सामान्य से कम रहेगा। स्काईमेट के पूर्वानुमानों के मुताबिक, इस साल मॉनसून पर अलनीनो का असर पड़ सकता है। इस साल मॉनसून सामान्य का 93 फीसदी रह सकता है।


स्काईमेट के मुताबिक, इस साल बंगाल, बिहार, झारखंड में बारिश कम होगी। पूर्वी भारत में सामान्य सामान्य के मुकाबले 92 फीसदी बारिश होने का अनुमान है। राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र और पंजाब में अच्छी बारिश के अनुमान जताए जा रहे हैं। मध्यभारत में मॉनसून सामान्य से 50 फीसदी कम रह सकता है।


कब कहां पहुंचेगा मॉनसून


मॉनसून 4 जून को केरल पहुंच सकता है। इससे पहले 22 मई को मॉनसून अंडमान निकोबार पहुंचेग। ओडिशा में मॉनसून 10 जून को दस्तक दे सकता है।


स्काईमेट के मुताबिक, जून, जुलाई, अगस्त और सितंबर में मॉनसून सामान्य से ज्यादा रहने का चांस कम है। जून में मॉनसून की कमजोर शुरुआत रह सकती है। मॉनसून के दूसरे हिस्से में बारिश अच्छी हो सकती है। तब सितंबर के मुकाबले अगस्त में अच्छी बारिश होने के आसार हैं।