Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

ऑयल प्राइस में बड़ी गिरावट, लेकिन रूस-सऊदी अरब में जल्दी डील की उम्मीद

रूस और सऊदी अरब के बीच 9 अप्रैल को बातचीत हो सकती है जिसमें प्रोडक्शन घटाने पर चर्चा होगी
अपडेटेड Apr 06, 2020 पर 16:03  |  स्रोत : Moneycontrol.com

ऑयल प्रोडक्शन और इसकी कीमतों को लेकर रूस और सऊदी अरब में पिछले कुछ महीनों से लगातार तनातनी चल रही है। दोनों कंपनियों के बीच प्राइस वॉर छिड़ने का असर है कि क्रूड के कीमतों में लगातार नरमी आई है। सोमवार को भी जब ग्लोबल मार्केट में ट्रेडिंग शुरू हुई तो क्रूड प्राइस 3 डॉलर प्रति बैरल नीचे ट्रेड कर रहा था। इससे पहले खबर आई थी कि दोनों देशों ने सोमवार को होने वाली बैठक को टालकर गुरुवार, 9 अप्रैल कर दिया है। इस बैठक में दोनों देशों के बीच प्रोडक्शन घटाने पर बातचीत होने वाली थी।


CNBC के मुताबिक, रूस के सॉवरेन वेल्थ फंड RDIF के चीफ एग्जिक्यूटिव के मुताबिक, रूस और सऊदी अरब में जल्दी ही सहमति बन सकती है और प्राइस वॉर खत्म हो सकता है।


रशियन डायरेक्ट इनवेस्टमेंट फंड (RDIF) किरिल दमित्रीएव (Kirill Dmitriev) ने कहा, "मुझे लगता है कि पूरा मार्केट यह समझ रहा है कि यह डील अहम है। इस डील से स्टेबिलिटी आएगी। बाजार के लिए स्टेबिलिटी बहुत जरूरी है और हम इसके बेहद करीब हैं।"


सोमवार को OPECऔर इसके सहयोगी देशों के बीच एक वर्चुअल मीटिंग होने वाली थी। लेकिन अब यह बैठक गुरुवार, 9 अप्रैल को होगी। उम्मीद की जा रही है कि इस बैठक में ऑयल प्रोडक्शन कम करने पर बात होगी।


ऑयल फ्यूचर लुढ़का


सोमवार को एशिया में दोनों ऑयल फ्यूचर में गिरावट आई है। एक तरफ US West texas Intermediate Crude 3.63 फीसदी गिरकर 27.31 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया। वहीं दूसरी तरफ ब्रेंट क्रूड 2.05 फीसदी गिरकर 33.41 डॉलर प्रति बैरल पर ट्रेड कर रहा था।


दमित्रीएव ने कहा कि पिछले हफ्ते रूस के प्रेसिडेंट व्लादमिर पुतिन ने कहा था कि प्रतिदिन संयुक्त प्रोडक्शन में 1 करोड़ बैरल की कमी करनी चाहिए।  दमित्रीएव  ने कहा कि पुतिन आयल डील की अहमियत पर बात कर रहे थे। लिहाजा रूस इसके लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि रूस अमेरिका के साथ भी काम कर रहा है ताकि वह भी प्रोडक्शन कम करे।



सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।