Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

Paytm फाउंडर विजय शेखर का तंज- आत्मनिर्भर नहीं, Google पर निर्भर है भारत

Google ने Paytm को Gambling के आरोप में अपने प्लेटफॉर्म से हटा दिया था
अपडेटेड Sep 22, 2020 पर 10:35  |  स्रोत : Moneycontrol.com

देश के सबसे बड़े डिजिटल पेमेंट (Digital Wallet App) और फाइनेंशियल सर्विस ऐप Paytm को Google ने शुक्रवार को अपने Play Store से हटा दिया था, हालांकि Google Play Store पर कुछ ही घंटों के बाद Paytm को रीस्टोर कर दिया गया। Paytm की ओर से जारी बयान में कहा गया कि Play Store की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अपने प्लैटफॉर्म से Cashback Component को हटा दिया था, जिसके बाद ही इसकी स्टोर पर वापसी हुई। Google ने Paytm ऐप को इसके जरिए Gambling (जुआ खेलने वाले) के आरोप में अपने प्लेटफॉर्म से हटा दिया था।


Google Play Store का कहना था कि वो Gambling ऐप का समर्थन नहीं करता है और जुए से जुड़ी उसकी नीतियों का उल्लंघन करने की वजह से Paytm को हटाया गया था। इस बीच Paytm के संस्‍थापक और CEO विजय शेखर शर्मा (Vijay Shekhar Sharma) ने EN Now को दिए एक इंटरव्यू में Google पर जमकर निशाना साधा है।  Paytm को Play Store से अस्थायी रूप से हटाए जाने को लेकर Google के अधिकारियों पर कई गंभीर सवाल उठाए हैं।  इसके साथ ही विजय शेखर शर्मा ने आत्मनिर्भर भारत (Atmanirbhar Bharat) अभियान पर तंज कसते हुए कहा है कि भारत Google-nirbhar है, ना कि Atmanirbhar Bharat।


कैशबैक सुविधा को हटाए जाने पर शर्मा ने गूगल के प्रति नाराजगी व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि अगर कैशबैक देना जुआ है, तो मुझे इस बारे में कुछ भी कहना नहीं है। उन्होंने कहा कि यह जुआ है क्योंकि वे प्लेटफॉर्म (प्ले स्टोर) के मालिक हैं और हमारे पास कोई और जगह विकल्प के रूप में नहीं है। Paytm के संस्‍थापक ने आरोप लगाया कि Google Play Store की पॉलिसी भी भेदभाव वाली हैं, जो अप्रत्यक्ष रूप से डिजिटल मार्केट में Google को हावी होने के लिए बनाई गई हैं। Paytm ने Google पर बड़ा आरोप लगाते हुए रविवार को अपने एक ब्लॉग पोस्ट में कहा कि Google भारत की डिजिटल इकोसिस्टम पर हावी होना चाहती है।


कंपनी ने बताया कि भारत में लीगल होने के बावजूद भी Google ने उसे कैशबैक का ऑफर हटाने के लिए मजबूर किया। जबकि Google की पेमेंट सर्विस फीचर Google Pay खुद ही इस तरह की ऑफर्स देती है। Paytm ने कहा कि यह पहली बार हुआ है, जब Google ने UPI कैशबैक और स्क्रैच कार्ड कैंपेन से संबंधित नोटिफिकेशन भेजा था और हमें इस मामले पर अपना पक्ष रखने का भी मौका नहीं दिया गया, जबकि Google Pay भी भारत मे इसी प्रकार के ऑफर्स कैंपेन को चला रही है। Paytm ने बताया कि भारत में दोनों (कैशबैक व स्क्रैच कार्ड) ही ऑफर्स लीगल हैं और सरकार के सभी नियमों व कानूनों का पालन करते हुए कैशबैक की सुविधा दी जा रही है।


कंपनी ने कहा कि Google के पास एंड्रॉयड है, जो एक ऑपरेटिंग सिस्टम है। इस पर भारत में 95 फीसदी से अधिक स्मार्टफोन चलते हैं। वहीं, दूसरी ओर Google ने Paytm को बैन किए जाने के मामले पर कहा था कि Play Store फैंटेसी क्रिकेट, ऑनलाइन कसीनो और दूसरे गैंबलिंग ऐप को भारत में इजाजत नहीं देता है। बता दें कि IPL को देखते हुए Paytm ने 11 सितंबर को UPI कैशबैक कैंपेन लॉन्च किया था, लेकिन 18 सितंबर को Google ने कंपनी को बिना किसी अग्रिम सूचना के अपने ऐप Google Play Store कुछ घंटों के लिए हटा दिया था। हालांकि क्रिकेट से जुड़े एक फीचर से कैशबैक की सुविधा को हटाने के बाद Paytm दोबारा Play Store पर उपलब्ध हो गया था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।