Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार खबरें

कई राज्य सरकारों से मिली परमिशन, कुछ प्लांट इस हफ्ते हो सकते हैं शुरूः Minda Industries

टू व्हीलर में जल्दी डिमांड आयेगी। सोशल डिस्टेंसिंग बनाये रखने के लिहाज से प्राइवेट गाड़यों की डिमांड बढ़ेगी
अपडेटेड Apr 20, 2020 पर 18:17  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

नो योर कंपनी में आज रडार पर Minda Industries है। बोर्ड ने TG MINDA में 33.5 करोड़ रुपये के निवेश को मंजूरी प्रदान की है। ये Unominda और जापान की Toyoda Gosei की 49 प्रतिशत ज्वाइंट वेंचर है। ये कंपनी ऑटोमोबाइल अप्लीकेशन्स के लिए इंटीरियर और एक्सटीरियर प्लास्टिक मोल्डेड कंपोनेंट्स का कारोबार करती है।


सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2020 की तीसरी तिमाही में कंपनी का मुनाफा 9.7 प्रतिशत बढ़कर 1470 करोड़ रुपये रहा जबकि वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में कंपनी का मुनाफा 1327 करोड़ रुपये रहा था।


सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2020 की तीसरी तिमाही में कंपनी की आय 30 प्रतिशत बढ़कर 77.7 करोड़ रुपये रही जबकि वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में कंपनी की 54.1 करोड़ रुपये रही थी।
 
MINDA INDUSTRIES का मार्केट कैप 7000 करोड़ रुपये है। इसमें प्रोमोटर्स की 70.79 प्रतिशत हिस्सेदारी है। कंपनी के शेयर का वर्तमान भाव 270 रुपये है। इसके शेयर का 52 हफ्तों का उच्च स्तर 425 रुपये है। ये शेयर अपने साल के उच्च स्तर से 35 प्रतिशत नीचे कारोबार कर रहा है।


कंपनी के CMD एन के मिंडा ने सीएनबीसी-आवाज़ से बातचीत करते हुए कहा कि भारत में सरकार द्वारा कुछ जगहों पर लॉकडाउन में राहत देने पर हम वहां की राज्य सरकारों से परमिशन मांग रहे हैं और कई सरकारों ने परमिशन दी है इसलिए वहां सरकार के कोरोना की रोकथाम संबंधी दिशानिर्देशों का पालन करके थोड़ा-थोड़ा काम शुरू करेंगे।


हालांकि आज कोई भी प्लांट नहीं खुला है क्योंकि अलग-अलग बसों में बैठाकर कर्मचारियों को लाना चुनौती भरा है। सोशल डिस्टेंसिंग मेनटेन करके फैक्टरी में प्रोडक्शन की स्थिति बनाना थोड़ा चैलेंजिंग है जिसे तैयार करने 2 से 3 दिन और लगेंगे फिर भी इस हफ्ते में कुछ प्लांटों में काम शुरू हो जायेगा।


एन के मिंडा ने आगे कहा कि टू व्हीलर में जल्दी डिमांड आयेगी। सोशल डिस्टेंसिंग बनाये रखने के लिहाज से प्राइवेट गाड़यों की डिमांड बढ़ेगी लेकिन पब्लिक गाडियों की डिमांड कम रहने की संभावना है। लॉकडाउन में काम ठप है लेकिन आगे की रणनीति के तहत कंपनी के प्लांटों में सफाई टीम अपना काम कर रही है।


कंपनी के खर्च कम करने के मुद्दे पर जवाब देते हुए मिंडा ने कहा कि वेवर ऑफ रेंट के मामले में पॉजिटिव रिस्पॉन्स आ रहे हैं क्योंकि इस कोरोना संकट को सभी समझ रहे हैं।


कर्मचारियों को सैलरी देने के प्रति कंपनी पूरी तरह से सकारात्मक है क्योंकि उन्हें पैसे लगनेवाले हैं। पंरतु उनका कहना है कि जिस तरह सरकार कंपनियों को सैलरी देने की सलाह दे रही है उसी तरह सरकार को भी इसमें हिस्सेदारी निभानी चाहिए क्योंकि रेंट, इलेक्ट्रिसिटी, ब्याज आदि सभी खर्च का वहन करते हुए कंपनी ठप रहते हुए कर्मचारियों को सैलरी देना कंपनियों के लिए आसान नहीं होगा।


इसके साथ ही उन्होंने जोर देकर कहा कि आरबीआई के बिनिफिट नीचे तक पहुंचने चाहिए और ब्याज कम होना चाहिए।


Minda Industries पर Sethi Finmart के विकास सेठी


Sethi Finmart के विकास सेठी ने कहा कि फंडामेंटली ये अच्छी कंपनी है। स्टॉक बहुत अच्छा है। निचले लेवल से काफी ऊंचाई पर पहुंचा है। इसलिए जिन्होंने खरीदा है उन्हें 350 रुपये के लक्ष्य के लिए बने रहना चाहिए। जिन्हें नई खरीदारी करनी है उन्हें गिरावट का इंतजार करना चाहिए और गिरावट पर इसमें फ्रेश खरीदारी की सलाह है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।