Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

लक्ष्मी विलास बैंक पर RBI ने कसा शिकंजा, कर्ज देने और ब्रांच खोलने पर लगी रोक

RBI ने लक्ष्मी विलास बैंक को Prompt Corrective Action (PCA) में डाल दिया है।
अपडेटेड Sep 30, 2019 पर 10:55  |  स्रोत : Moneycontrol.com

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने लक्ष्मी विलास बैंक पर कड़ी कार्रवाई करते हुए उसे Prompt Corrective Action (PCA) में डाल दिया है। इससे अब बैंक पर नया कर्ज देने और नई ब्रांच खोलने पर पाबंदी लग गई है। मौजूदा समय में PCA के तहत आने वाले बैंक United Bank of India, Indian Overseas Bank, Central Bank of India, IDBI Bank और UCO बैंक हैं।


बता दें कि RBI किसी भी बैंक को PCA के फ्रेमवर्क में तब डालता है जब बैंक का NPA बढ़ जाता है या फिर उसकी इनकम नहीं बढ़ रही है।


RBI की इस कार्रवाई से बैंक का इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस में विलय होने का प्रस्ताव अधर में लटक गया है। विलय को अभी तक RBI से मंजूरी नहीं मिली है।


दिल्ली पुलिस की इकोनॉमिक ऑफेंस विंग (EOW) ने लक्ष्मी विलास बैंक के खिलाफ FIR दर्ज की है। बैंक पर आपराधिक षड्यंत्र रचने, गबन और धोखा देने का आरोप है। यह FIR रेगिलेयर फिनवेस्ट लिमिटेड (RFL) की शिकायत पर दर्ज की गई है। जिससे RBI ने बैंक के खिलाफ सख्त रवैया अपनाया है।


इस मामले में पुलिस बैंक के बोर्ड में शामिल डायरेक्टर्स के खिलाफ लगे आरोपों की जांच कर रही है।


रिजर्व बैंक ने 31 मार्च 2019 को खत्म हुए फाइनेंशियल ईयर के लिए जोखिम की निगरानी के तहत हुई जांच के बाद ये कार्रवाई की है।


फिस्कल ईयर 2018-19 के लिए लक्ष्मी विलास बैंक का शुद्ध NPA 7.49 फीसदी, Capital Adequacy Ratio (CAR) 7.72 फीसदी, और एसेट्स पर 2.32 फीसदी का नुकसान हुआ है। बैंक को 2018-19 में 894.10 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।