Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

RIL के मार्केट कैप में 11 हफ्तों में 3.7 लाख करोड़ का उछाल, दिसंबर तक छू सकता है ₹2,000 का स्तर

पिछले 3 महीनों में कंपनी में आए तमाम निवेशों और अच्छी खबरों के दम पर इस स्टॉक में जोरदार बढ़त देखने को मिली है।
अपडेटेड Jul 07, 2020 पर 10:08  |  स्रोत : Moneycontrol.com

पिछले 3 महीनों में कंपनी में आए तमाम निवेशों और अच्छी खबरों के दम पर इस स्टॉक में जोरदार बढ़त देखने को मिली है। Reliance Industries (RIL) के शेयर 6 जुलाई को 11.6 लाख करोड़ रुपये के मार्केट कैप के निशान को पार कर गए। आज ये शेयर BSE पर  इंट्रा डे में करीब 3 फीसदी भागा है।


22 अप्रैल को जब कंपनी ने फेसबुक के साथ  जियो प्लेटफार्म में 43,574 करोड़ रुपये के निवेश करार की जानकारी दी थी तब इसका मार्केट कैप 7.83 लाख करोड़ रुपये था। इसके बाद सिर्फ 11 हफ्तों में  कंपनी का मार्केट कैप करीब  3.7 लाख करोड़ रुपये बढ़ा है।


एक ऐसे समय में जब पूरी दुनिया कोरोना के कोहराम से हैरान है  RIL में मजबूती बनी रही है। कंपनी अपने मार्च 2021 के निर्धारित लक्ष्य से पहले ही कर्ज-मुक्त हो गई है। मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली  Reliance Industries ही भारत की अकेली ऐसी कंपनी है जो कोरोना संकट काल में लागू लॉकडाउन में भी प्रगति करने वाली कंपनियों की सूचि में शामिल है।


रिलायंस इंडस्ट्री (RIL) अकेली ऐसी अकेली भारतीय कंपनी है जो कोरोना काल में प्रगति करने वाली  लंदन के Financial Times द्वारा तैयार की गई टॉप 100 लिस्ट में शामिल है। इस लिस्ट में उन कंपनियों को रखा गया है जिन्होंने कोरोना से निपटने के लिए घोषित लॉकडाउन के दौरान भी मजबूत प्रदर्शन किया है और इस संकटकाल में भी इनके कारोबार में बढ़ोत्तरी देखने को मिली है। Financial Times द्वारा तैयार की गई टॉप 100 लिस्ट में मुंबई स्थित RIL 89वें नंबर पर है। Financial Times ने कंपनियों की ये सूचि कोरोना महामारी के दौरान उनकी कारोबारी मजबूती और रिकवरी की क्षमता को ध्यान में रखकर तैयार की है।


कंपनी ने अपने डिजिटल आर्म रिलायंस जियो प्लेटफार्म में दुनिया के कुछ लीडिंग निवेशकों से 117,588.45 कोरोना काल के दौरान ही कुल  117,588.45 करोड़ रुपये के निवेश हासिल किए हैं। जियो प्लेटफार्म में निवेश करने वाली ग्लोबल कंपनियों में से सबसे पहले फेसबुक ने 43574 करोड़ रुपये का निवेश करके 9.99 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी थी। इसके बाद सिल्वर लेक पार्टनर्स, विस्टा इक्विटी, जनरल एटलांटिक, केकेआर, मुबादला, टीपीजी, पीआईएफ और इंटेल जैसी कंपनियों ने निवेश किया है। कंपनी की आखिरी डील चिप मेकर कंपनी Intel Corp से हुई। अमेरिका की बड़ी सेमीकंडक्टर कंपनी Intel Corp 0.39 फीसदी हिस्सेदारी लेने के लिए रिलायंस इंडस्ट्रीज के  डिजिटल यूनिट  RIL Jio Platforms में 1,894.5 करोड़ रुपये का निवेश कर रही है।


पिछले 3 महीनों में कंपनी में आए तमाम निवेशों और अच्छी खबरों के दम पर इस स्टॉक में जोरदार बढ़त देखने को मिली है। 19 जून को कंपनी ने सूचित किया कि वह कर्जमुक्त हो गई है और सिर्फ 58 दिनों में 1.68  लाख करोड़ रुपए जुटाए हैं। 2020 में इस शेयर में  20 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिली है। जबकि इसी अवधि में सेंसेक्स में 12 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है। IIFL Securities के संजीव भसीन का कहना है कि इस सब खबरों का असर हो चुका है लेकिन अभी भी शेयर में काफी संभावनाएं बाकी है।


अधिकतर जानकारों की राय है कि ये शेयर इस साल के अंत तक 2000 का स्तर आसानी से छू सकता है। इसमें आगे री-रेटिंग देखने को मिलेगी। sptulsian.com के एसपी तुलसियान ने CNBC-TV18 से कहा कि इस शेयर में बड़ी री-रेटिंग देखने को मिलेगी। KRChoksey Securities के देवेन चोकसी का भी कहना है कि इस शेयर में दिसंबर में 2000 के स्तर देखने को मिल सकते हैं। इस स्टॉक की प्रगति काफी हद तक Jio Platforms पर निर्भर करेगी।




(डिस्क्लेमर: नेटवर्क 18 मीडिया एंड इनवेस्टमेंट लिमिटेड पर इंडिपेंडेंट मीडिया ट्रस्ट का मालिकाना हक है। इसकी बेनफिशियरी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज है।)




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।