Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

Nifty Auto Index के शेयर 40% तक गिरे, कहीं आपके पास तो कोई शेयर नहीं?

SIAM ने हाल ही में जारी किए गए डाटा के मुताबिक, जुलाई में इस सेक्टर का उत्पादन 11 फीसदी से अधिक गिर गया है
अपडेटेड Aug 22, 2019 पर 09:43  |  स्रोत : Moneycontrol.com

ऑटो सेक्टर पिछले दो दशक से बुरे दौर से गुजर रहा है। इस सेक्टर में आए मंदी के बादल छंटने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। खराब संकट का समाना कर रहे ऑटो सेक्टर में कई लोगों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ रहा है। इसके साथ ही BS-VI स्टैंडर्ड की खपत में गिरावट के कारण प्रोडक्शन में गिरावट आने की संभावना अभी से जताई जा रही है। लिहाजा नौकरियों पर भी सकंट के बादल मंडरा सकते हैं।


सोसायटी फॉर इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चर्स (SIAM) ने हाल ही में जारी किए गए डाटा के मुताबिक, जुलाई में इस सेक्टर का उत्पादन 11 फीसदी से अधिक गिर गया है। कमर्शियल वाहनों के उत्पादन में 26 फीसदी और पैसेंजर व्हीकल प्रोडक्शन में 16.5 फीसदी की कमी आई है।


ऑटो इंडस्ट्री में इस तरह के दबाव के कारण, निफ्टी ऑटो इंडेक्स के 15 शेयरों में 8 ने इस फाइनेंशियल ईयर की शुरुआत से 30 फीसदी से अधिक लाभ का सफाया कर दिया है। बजाज ऑटो इकलौता ऐसा स्टॉक है जो इस साल 0.06 फीसदी के मामूली रिटर्न के साथ ग्रीन सिग्नल पर चल रहा है।


Motherson Sumi System में सबसे बड़ी गिरावट देखी गई है, जिसमें 40 फीसदी से अधिक गिरावट है। इस बीच 30 फीसदी से अधिक डूबने वाले शेयरों में Tata Motors, Apollo Tyre, Bosch, Exide Industries, M&M, Ashok Leyland और TVS Motor शामिल हैं। जबकि MRF में इस साल 13.78 फीसदी की गिरावट आई है।
इसके अलावा इस साल Eicher Motors सहित 6 अन्य स्टॉक 14 से 29 फीसदी के बीच फिसल गए हैं।


Edelweiss के मुताबिक, डोमेस्टिक फैक्टर्स, रेग्युलेटरी कॉस्ट में बढ़ोत्तरी, Pre-owned सेगमेंट में तगड़ा कॉम्पटिशन और उच्च मार्जिन दबाव के कारण ऑटो सेक्टर में मंदी छाई हुई है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।