Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

सन फार्मा की तगड़ी पिटाई, क्या रही वजह

प्रकाशित Fri, 18, 2019 पर 10:27  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

व्हिसलब्लोअर की नई शिकायत के बाद सन फार्मा का शेयर 6 साल के निचले स्तर पर पहुंच गया है। सन फार्मा आज 10 फीसदी तक टूटता नजर आया। दरअसल एक व्हिसलब्लोअर के सेबी में नई शिकायत की खबरें हैं। इसमें कॉरपोरेट गवर्नेंस से जुड़ी गंभीर शिकायतें हैं। लेकिन सन फार्मा ने अपनी सफाई में कहा है कि व्हिसलब्लोअर की कोई शिकायत नहीं मिली है। कंपनी ने सेबी को चिट्ठी लिख मामले की जांच करने की मांग की है।


बता दें कि मनीलाइफ मैगजीन ने ये खुलासा किया है कि एक व्हिसलब्लोअर ने सन फार्मा की कंपनी सुरक्षा रियलिटी और आदित्य मेडीसेल के बीच कुछ संदिग्ध ट्रांजैक्शन के खिलाफ शिकायत की है। खबर के मुताबिक 2014 से 2017 के बीच करीब 5 हजार 800 करोड़ रुपए के ट्रांजैक्शन हुए हैं जिनपर सवाल उठाया गया है।


उधर सन फार्मा ने साफ किया है कि व्हिसलब्लोअर की 172 पेज वाली कोई शिकायत नहीं मिली है। साथ ही कंपनी ने मार्केट रेगुलेटर सेबी को चिट्ठी लिखकर कुछ मीडिया हाउस की भूमिका की जांच करने की मांग की है। कंपनी का कहना है कि जानबूझकर अफवाह फैलाए जा रहे हैं।


मनी लाइफ के फाउंडर देवाशीष बासु का कहना है कि सनफार्मा के खिलाफ व्हिसलब्लोअर की शिकायत बेहद गंभीर है। ये कॉरपोरेट गवर्नेंस में गड़बड़ी का मामला है, सेबी को इसकी जांच करनी चाहिए।


देवाशीष बासु ने सीएनबीसी-आवाज़ से बातचीत में माना कि उन्होंने कुछ संस्थागत निवेशकों को व्हिसलब्लोअर की चिट्ठी दिखाई है। उन्होंने आगे कहा कि आदित्य मेडिसेल्स के ट्रांजैक्शन की जांच जरूरी है। सेबी को इसकी जानकारी दी गई है, उम्मीद है कि जांच होगी। उन्होंने ये भी कहा कि सन फार्मा ने अभी तक उनके सवालों के जवाब नहीं दिये हैं।