Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

सुप्रीम कोर्ट ने Unitech के प्रमोटर संजय चंद्रा को 3 साल बाद दी अंतरिम जमानत

न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति एम आर शाह की खंडपीठ ने संजय के माता-पिता के कोरोना संक्रमित होने के आधार पर अंतरिम जमानत पर जमानत दी
अपडेटेड Jul 07, 2020 पर 18:25  |  स्रोत : Moneycontrol.com

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Copurt)ने घर-खरीदारों के साथ धोखाधड़ी के मामले में दिल्ली के तिहाड़ जेल में पिछले तीन साल से बंद यूनिटेक (Unitech) के प्रोमोटर संजय चंद्रा (Sanjay Chandra) को एक महीने की अंतरिम जमानत पर रिहा करने का मंगलवार को आदेश दिया। दरअसल, संजय चंद्रा के माता-पिता कोरोना (COVID-19) पॉजिटिव हैं और उनका अस्पताल में इलाज चल रहा है। इसी आधार पर शीर्ष अदालत ने संजय चंद्रा को एक महीने की अंतरिम जमानत दी गई है।

न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति एम आर शाह की खंडपीठ ने संजय के माता-पिता के कोरोना संक्रमित होने के आधार पर अंतरिम जमानत पर जमानत का आदेश दिया। उनके माता-पिता अब भी अस्पताल में हैं। न्यायालय ने हालांकि संजय के भाई को जमानत नहीं दी है। शीर्ष अदालत ने मानवीयता के आधार पर संजय की जमानत मंजूर की है। सुप्रीम कोर्ट को बताया गया कि चंद्रा के 78 साल के पिता कोरोना से ग्रसित है और इस समय ICU में भर्ती है।

दिल्ली पुलिस ने चंद्रा ब्रदर्स को गुरुग्राम में यूनिटेक की दो आवासीय परियोजनाओं के जरिए मकान खरीददारों को ठगने के आरोप में मार्च 2017 में गिरफ्तार किया था, जिसके बाद उन्हें तिहाड़ जेल में रख गया। पिछले साल कंपनी के फॉरेंसिक ऑडिट में कंपनी के प्रबंधन द्वारा कथित तौर पर पैसे को डायवर्ट किया गया था, जिसके कारण हाउसिंग प्रोजेक्ट्स  पूरे करने में देरी हुई थी। सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें अपनी संपत्तियों को बेचने और मकान खरीददारों के पैसे लौटाने के लिए कहा है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।