Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

कार्रवाई के डर से आज टेलीकॉम कंपनियां भर सकती हैं AGR बकाया : DoT सूत्र

तीनों कंपनियों पर 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक का बकाया है। लेकिन कंपनियां DoT को कुछ बकाया दे सकती है।
अपडेटेड Feb 17, 2020 पर 11:24  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Bharti Airtel (भारती एयरटेल) Vodafone Idea (वोडाफोन आइडिया) और Tata Teleservices (टाटा टेलीसर्विसेज) ये सभी टेलीकॉम कंपनियां Department of Telecom (DoT) की कड़ी कार्रवाई से बचने के लिए आज Adjusted Gross Revenue (AGR) का बकाया चुका सकती है। DoT के आधिकारिक सूत्रों ने इसकी जानकारी दी है।


तीनों कंपनियों पर कुल मिलाकर 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक का AGR बकाया है। लेकिन, इन कंपनियों ने DoT को कुछ रुपये देने की जानकारी दी है।


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एयरटेल, वोडाफोन आइडिया और टाटा टेलीसर्विसेज ने कहा है कि सोमवार यानी आज पेमेंट करेंगी। इसके बाद DoT कंपनियों द्वारा किए गए पेमेंट के बाद आगे की कार्रवाई करेगा।


इसके पहले शुक्रवार को भारती एयरटेल ने DoT को 20 फरवरी तक 10,000 करोड़ रुपये देने की पेशकश की थी, लेकिन DoT के अधिकारियों का कहना है कि विभाग अब अधिक एक्टेंशन नहीं दे सकता।


इधर वोडाफोन आइडिया ने कल (शनिवार) को कहा था कि वो AGR को बकाए को लेकर कितना चुका सकता है, इसका आकलन कर रहा है।


सुप्रीम कोर्ट ने 24 अक्टूबर 2019 को अपने आदेश में कहा था कि सभी कंपनियों को 23 जनवरी के पहले 1.47 लाख करोड़ रुपये का AGR बकाया चुकाना है। हालांकि रिलायंस जियो को छोड़कर अभी तक किसी भी कंपनी ने AGR बकाया नहीं चुकाया है। यहां तक कि सरकारी कंपनी BSNL और MTNL ने भी अभी तक AGR बकाया नहीं चुकाया है।


जानिए किस कंपनी पर कितना है AGR बकाया


लाइव मिंट में छपी खबर के मुताबिक, उपलब्ध अनुमानों के अनुसार एयरटेल का लाइसेंस शुल्क समेत तकरीबन 35,586 करोड़ रुपये बकाया है।


वोडाफोन आइडिया का 53,000 करोड़ रुपये बकाया है। जिसमें 24,729 करोड़ रुपये स्पेक्ट्रम का बकाया और अन्य 28,309 करोड़ रुपये लाइसेंस शुल्क है।


इसी तरह टाटा टेलीसर्विसेज का तकरीबन 13,800 करोड़ रुपये बकाया है। BSNL का 4,989 करोड़ रुपये और MTNL का 3,122 करोड़ रुपये AGR बकाया है। 


कुल 1.47 लाख करोड़ रुपये में से तकरीबन 1.13 लाख करोड़ रुपये की वसूली होने की संभावना है, क्योंकि जो अन्य कंपनियों का AGR बकाया है वो पहले ही अपना बिजनेस (कारोबार) समेट चुकी हैं।


रिलायंस कम्युनिकेशन्स (Reliance Communications) और एयरसेल (Aircel) इस समय insolvency proceeding के दौर से गुजर रही हैं। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।