Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

फंड की कमी से जूझ रही हैं टेलीकॉम कंपनियां, 30 फीसदी बढ़ सकता है बिल

टेलीकॉम कंपनियां टैरिफ में 25 से 30 फीसदी तक बढ़ोतरी कर सकती हैं।
अपडेटेड Jan 21, 2020 पर 09:05  |  स्रोत : Moneycontrol.com

टेलीकॉम इंडस्ट्री में जियो के प्रवेश करते ही मोबाइल यूजर्स में तगड़ी उछाल आई है। इसके बाद जो टैरिफवॉर शुरु हुआ। उसमें जियो को टक्कर देने में अन्य कंपनियों को कड़ी मशक्कत करन पड़ी। लेकिन साल 2020 में मोबाइल यूजर्स के लिए तगड़ा झटका लग सकता है। यानी आपके मोबाइल बिल में तगड़ी बढ़ोतरी होने की उम्मीद जताई जा रह है।


दरअसल मौजूदा समय में टेलीकॉम कंपनियां फंड की कमी से जूझ रही हैं। कंपनियों के चेयरमैन यहां तक कह चुके हैं कि अगर उन्हें सरकार से कोई मदद नहीं मिली तो उन्हें टेलीकॉम बिजनेस बंद करने की नौबत आ सकती है। इधर सुप्रीम कोर्ट ने वोडाफोन आइडिया, एयरटेल का बकाया Adjusted Gross revenue (AGR) 53,039 करोड़ रुपये चुकाने का आदेश दिया है। जिसके लिए टेलीकॉम कंपनियों को 23 जनवरी 2020 तक का समय दिया गया है।


इकोनॉमिक टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक, देश की बड़ी टेलीकॉम कंपनियों का Average Revenue per User (ARPU) में ज्यादा बढ़ोतरी नहीं हुई। जबकि टेलीकॉम सर्विसेज पर सब्सक्राइबर्स कुल खर्च अन्य देशों के मुकाबले हमारे देश में काफी कम है। जिसकी वजह से कंपनियों को घाटा सहना पड़ रहा है। जानकारों का मानना है कि अमेरिका, ब्रिटेन, सिंगापुर, चीन, फिलीपींस, जापान और ऑस्ट्रेलिया के मुकाबले भारत में कम्युनिकेशन पर यूजर्स का खर्च बहुत कम है।


ऐसे में टेलीकॉम कंपनियों को अपना बैलेंस बनाए रखने के लिए टैरिफ बढ़ाने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। लिहाजा मोबाइल यूजर्स के बिल में बढ़ोतरी होगी। इतना ही नहीं, वोडाफोन आइडिया ने बिजनेस से बाहर होने की आशंका भी जताई है। अगर यह कंपनी बंद होती है, तो बाजार में भारती एयरटेल और रिलायंस जियो का दबदबा हो जाएगा।


IIFL Securities के डायरेक्टर संजीव भसीन ने कहा कि रिलायंस जियो के बाजार में आने से पहले टेलिकॉम कंपनियों का ARPU 180-200 रुपये का था। मौजूदा समय में यह इससे काफी कम है। पिछले तीन सालों में टेलिकॉम से जुड़ी सुविधाओं पर यूजर्स का खर्च कम हुआ है। साल 2020 में टेलिकॉम कंपनियां टैरिफ में 30 फीसदी तक की वृद्धि कर सकती हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।