Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

Facebook राजनीतिक विज्ञापनों पर रोक नहीं लगाएगा, Twitter ने लगाई रोक

Facebook ने कहा, ये विज्ञापन उम्मीदवार और लॉबिंग ग्रुप की आवाज है इसलिए, इसे बंद नहीं किया जा सकता
अपडेटेड Nov 01, 2019 पर 09:44  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Twitter और Facebook ने राजनीतिक विज्ञापनों पर अलग-अलग रूख अख्तियार किया है। Twitter ने जहां राजनीतिक विज्ञापन नहीं दिखाने का फैसला किया है। वहीं Facebook ने कहा है कि वह राजनीतिक विज्ञापन दिखाने से परहेज नहीं करेगा। Twitter के इस फैसले के बाद उसके शेयर करीब 1 फीसदी गिर गए।  


दूसरी तरफ Facebook ने राजनीतिक विज्ञापनों को उम्मीदवार तथा लॉबिंग समूहों के लिए जरूरी बताते हुए इन विज्ञापनों को बंद करने से इनकार किया है।


फेसबुक के CEO  मार्क जुकरबर्ग ने निवेशकों को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि एक लोकतंत्र में नेताओं या खबरों पर रोक लगाना निजी कंपनियों के लिए ठीक है। हमने पहले भी इस बात पर विचार किया है कि हमें ऐसे विज्ञापन चलाने चाहिए या नहीं और हम आगे भी इसपर विचार करते रहेंगे। हालांकि अभी के हिसाब से हमने इसे जारी रखने का निर्णय लिया है।’’


उन्होंने गूगल, यूट्यूब, केबल नेटवर्क और टेलीविजन चैनलों का जिक्र करते हुए कहा कि ये सब अपने प्लेटफॉर्म पर ऐसे विज्ञापन चलाते हैं।


जुकरबर्ग ने कहा कि कंपनी ने इन विज्ञापनों को आमदनी के कारण जारी रखने का फैसला नहीं लिया है। यह फैसला इसलिए लिया गया है कि ये विज्ञापन उम्मीदवारों और लॉबिंग समूहों की महत्वपूर्ण आवाज हैं। उन्होंने कहा कि राजनीतिक विज्ञापन अगले साल कंपनी के राजस्व में 0.50 प्रतिशत से भी कम योगदान देंगे।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।